• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जाएंगे रूस, दूसरे विश्व युद्ध में जीत की 75वीं सालगिरह पर परेड में होंगे शामिल

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जाएंगे रूस, दूसरे विश्व युद्ध में जीत की 75वीं सालगिरह पर परेड में होंगे शामिल

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की फाइल फोटो

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की फाइल फोटो

रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) के अधिकारियों ने कहा है कि चीन के साथ सीमा विवाद होने के बावजूद, राजनाथ सिंह (Rajnath Singh), रूस (Russia) के साथ भारत के दशकों पुराने सैन्य संबंधों के चलते इस यात्रा पर जा रहे हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. रक्षा मंत्री (Defence Minister) राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) सोमवार को तीन दिनों की यात्रा (three day visit) पर रूस (Russia) जाएंगे. यहां वो मास्को (Moscow) में दूसरे विश्व युद्ध (Second World War) के दौरान जर्मनी (Germany) पर सोवियत रूस (Soviet Russia) की जीत की 75वीं सालगिरह के कार्यक्रम में शामिल होंगे.

    रक्षा मंत्री की यात्रा भारत की चीन (China) से साथ सीमा पर चल रही तनातनी (standoff) के बीच हो रही है. खासकर तब जब 15 जून को चीनी सैनिकों (PLA) के साथ पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) की गलवान घाटी (Galwan Valley) में एक हिंसक झड़प के दौरान भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे.

    दूसरे विश्व युद्ध में जर्मनी पर सोवियत की जीत की 75वीं सालगिरह की परेड में शामिल होंगे
    रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 24 जून से दूसरे विश्व युद्ध में जीत की 75वीं सालगिरह के कार्यक्रम में जीत की परेड में शामिल होने के लिए रूस जाएंगे." अधिकारियों ने कहा है कि चीन के साथ सीमा विवाद होने के बावजूद, राजनाथ सिंह रूस के साथ भारत के दशकों पुराने सैन्य संबंधों के चलते इस यात्रा पर जा रहे हैं.

    रूसी राजदूत निकोले कुदाशेव ने ट्वीट किया, "मैं सैन्य सहयोगी भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षित यात्रा की कामना करता हूं, जो कि सोमवार को मास्को 24 जून की द ग्रेट विक्ट्री जे मिलिट्री परेड के गवाह बनने के लिए आने वाले हैं."

    भारत भी परेड में भेजेगा अपनी तीनों सेनाओं की 75 सदस्यीय टुकड़ी
    इससे पहले रूस ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को मास्को में 24 जून को होने वाली बड़ी सैन्य परेड में शामिल होने का न्योता दिया था. दूसरे विश्व युद्ध में सोवियत संघ की जीत की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर इस परेड का आयोजन किया जा रहा है.

    यह भी पढ़ें:- क्‍वारंटाइन पर LG बदल सकते हैं फैसला, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने दिए संकेत

    पहले कहा गया था कि पूर्वी लद्दाख में भारतीय और चीनी सेना के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर रक्षा मंत्री का कार्यालय इस न्योते पर सकारात्मक तरीके से विचार कर रहा है क्योंकि रूस भारत का दशकों पुराना सैन्य साझेदार है.

    मॉस्को के लाल चौक पर होने वाली इस परेड में हिस्सा लेने के लिए भारत तीनों सेनाओं (जल-थल-वायु) की एक टुकड़ी को भेज रहा है. भारतीय परेड का नेतृत्व कर्नल रैंक का अधिकारी करेगा. 75 सदस्यीय भारतीय दल चीन सहित 11 देशों की सैन्य टुकड़ियों के साथ इस परेड में हिस्सा लेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज