आसान की गई डिफेंस निर्यात की प्रक्रिया ताकि भारत की प्राइवेट कंपनियां बेचें मित्र देशों को हथियार: रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने निजी क्षेत्र की रक्षा कंपनियों (Private Defence Companies) से भारत के मित्र देशों को निर्यात (Defence Export) बढ़ाने की बात कही है.

भाषा
Updated: August 10, 2019, 5:46 AM IST
आसान की गई डिफेंस निर्यात की प्रक्रिया ताकि भारत की प्राइवेट कंपनियां बेचें मित्र देशों को हथियार: रक्षा मंत्री
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने प्राइवेट डिफेंस प्लेयर्स से निर्यात बढ़ाने को कहा है (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: August 10, 2019, 5:46 AM IST
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने निजी क्षेत्र की रक्षा कंपनियों (Private Defence Companies) से शुक्रवार को कहा कि वे भारत के मित्र देशों को निर्यात (Defence Export) बढ़ाने की दिशा में काम करें. उन्होंने कहा कि इसकी प्रक्रिया आसान बना दी गयी है.

रक्षा मंत्री ने ‘रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया’ (Make in India in Defence Sector) विषय पर यहां आयोजित एक गोलमेज बैठक में रक्षा तथा विमानन क्षेत्र की अग्रणी कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों से कहा कि उनके पास निर्यात के साथ ही घरेलू बाजार में योगदान देने के भारी अवसर उपलब्ध हैं.

'बिना स्वदेशी तकनीक के रक्षा क्षेत्र में नहीं बना जा सकता आत्मनिर्भर'
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मेक इन इंडिया के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये बहुस्तरीय तरीका अपनाने को कहा. राजनाथ सिंह ने कहा कि बिना स्वदेशी तकनीक का विकास किये रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर नहीं बना जा सकता है. उन्होंने देश में ही संबंधित प्रौद्योगिकियों का विकास करने को कहा.

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘रक्षा मंत्री ने उद्योग जगत को मित्र राष्ट्रों को निर्यात बढ़ाने की दिशा में काम करने को कहा. उन्होंने कहा कि निर्यात की प्रक्रिया आसान बनायी जा चुकी है.’’ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि 2018-19 में रक्षा उद्योग का कुल उत्पादन 80 हजार करोड़ रुपये का रहा जिसमें निजी क्षेत्र का योगदान 16 हजार करोड़ रुपये का था.

2024-25 तक रक्षा उत्पादों का निर्यात 35,000 करोड़ रुपये के लक्ष्य को कर सकता है पार
इसी साल जुलाई में रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया था कि हाल के वर्षों में निर्यात में जारी वृद्धि को देखते हुये 2024-25 तक रक्षा उत्पादों का निर्यात 35,000 करोड़ रुपये के लक्ष्य को पार कर लेने का अनुमान है. रक्षा उत्पादन विभाग के सचिव अजय कुमार ने कहा था, ‘‘मुझे उम्मीद है कि 2024-25 तक निर्यात 35,000 करोड़ रुपये के लक्ष्य को पार कर जाएगा.’’ उन्होंने कहा कि इस निर्यात में रक्षा कल-पुर्जों की अहम भूमिका है.
Loading...

इस साल केंद्र सरकार ने 20,000 करोड़ रुपये के रक्षा निर्यात का  रखा है लक्ष्य
पिछले वित्त वर्ष में रक्षा उत्पादों का निर्यात 10,700 करोड़ रुपये का हुआ था. चालू वित्त वर्ष में केंद्र सरकार ने इसके लिए 20,000 करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है. चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में पहले ही 5,600 करोड़ रुपये का निर्यात किया जा चुका है. इससे पहले वित्त वर्ष 2016-17 में रक्षा निर्यात 1,500 और 2017-18 में 4,500 करोड़ रुपये का हुआ था.

यह भी पढ़ें: जम्‍मू-कश्‍मीर का एलजी बनने की दौड़ में 2 पूर्व IPS अफसर आगे
First published: August 10, 2019, 5:46 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...