दुनिया का चक्कर लगा कर गोवा पहुंचीं नौसेना की 6 जाबांज अफसर, सीतारमन ने किया स्वागत

गोवा में एक स्वागत कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री सीतारमन ने कहा, ' उन्होंने जो सफलता हासिल की है उसके लिए मैं बहुत खुश हूं. भारत के युवा सफलता हासिल कर रहे हैं. यह महिला और पुरुष, दोनों के लिए प्रेरणादायक है.''

News18Hindi
Updated: May 21, 2018, 6:44 PM IST
दुनिया का चक्कर लगा कर गोवा पहुंचीं नौसेना की 6 जाबांज अफसर, सीतारमन ने किया स्वागत
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्विटर एकाउंट पर जारी की गई तस्वीर.
News18Hindi
Updated: May 21, 2018, 6:44 PM IST
दुनिया की परिक्रमा करने गई नौसेना की 6 महिला अफसर वापस भारत लौट आई हैं. सोमवार को गोवा में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन ने उनका स्वागत किया. 6 महिला अफसरों का यह दल INSV तारिणी के जरिए परिक्रमा पर बीते साल 10 सितंबर 2017 को निकला था. तारिणी को वर्तिका जोशी कमांड कर रही थीं. चालक दल के अन्य सदस्यों में लेफ्टिनेंट कमाण्डर प्रतिभा जामवाल, पी. स्वाति, लेफ्टिनेंट एस. विजया देवी, बी. ऐश्वर्या और पायल गुप्ता शामिल थीं.

गोवा में एक स्वागत कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री सीतारमन ने कहा, ' उन्होंने जो सफलता हासिल की है उसके लिए मैं बहुत खुश हूं. भारत के युवा सफलता हासिल कर रहे हैं. यह महिला और पुरुष, दोनों के लिए प्रेरणादायक है.''

गोवा में नौसेना की 6 महिला अफसरों के साथ रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन


देश में बनी आईएएनएसवी तारिणी, जिसे मेक इन इंडिया अभियान के तहत निर्मित किया गया है. इन्होंने 55 फुट के ‘ आईएनएस तारिणी ’ में अपनी यह यात्रा पूरी की. भारतीय नौसेना में इसे पिछले साल 18 फरवरी को शामिल किया गया था. नौसेना ने बताया कि सभी महिला चालक सदस्य द्वारा हासिल की गई यह पहली उपलब्धि है.

नौसेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि यह यात्रा छह चरण में पूरी की गई है और चालक दल ने इस दौरान फ्रेमांटले (ऑस्ट्रेलिया), लाइटिलटन (न्यूजीलैंड), पोर्ट स्टैनली (फॉकलैंड द्वीप), केप टाउन (दक्षिण अफ्रीका) और मॉरीशस में अपना पड़ाव डाला. प्रवक्ता ने बताया कि चालक दल ने अपनी यात्रा के दौरान 21,600 नॉटिकल माइल की दूरी तय की और दो बार भूमध्य रेखा , तारिणी चार महाद्वीपों और तीन सागरों को पार किया. (एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें: INSV तारिणी- कैसा रहा समुंदर का 254 दिन का सफर
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर