Video: मॉस्को पहुंचे राजनाथ सिंह, हाथ मिलाने को बढ़े अधिकारी तो दिया यह जवाब

Video: मॉस्को पहुंचे राजनाथ सिंह, हाथ मिलाने को बढ़े अधिकारी तो दिया यह जवाब
मास्को पहुंचे राजनाथ सिंह

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) की यह जून के बाद की यह दूसरी मॉस्को यात्रा है. उन्होंने 24 जून को मॉस्को में विजय दिवस परेड में भारत का प्रतिनिधित्व किया था. विजय दिवस परेड का आयोजन द्वितीय विश्वयुद्ध में नाजी जर्मनी पर सोवियत विजय की 75वीं वर्षगांठ पर किया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 12:35 PM IST
  • Share this:
मॉस्को. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह(Rajnath Singh) शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की बैठक में हिस्सा लेने के लिए बुधवार को रूस (Russia) की राजधानी मास्को पहुंचे. सिंह यहां एससीओ की एक महत्वपूर्ण बैठक में हिस्सा लेने के साथ ही रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू से मुलाकात करके द्विपक्षीय रक्षा सहयोग बढ़ाने पर चर्चा करेंगे. अधिकारियों ने बताया कि एससीओ सदस्य देशों के सभी आठ रक्षा मंत्री आतंकवाद, अतिवाद जैसी क्षेत्रीय सुरक्षा चुनौतियों और उनसे एकजुट होकर निपटने के तरीकों पर चर्चा करेंगे. भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया,'रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस की तीन दिवसीय यात्रा पर मॉस्को पहुंच गए. मेजर जनरल बुखतीव यूरी निकोलाईविच ने हवाई अड्डे पर उनकी अगवानी की.' यह बैठक ऐसे समय हो रही है जब संगठन के दो प्रमुख सदस्य देश भारत और चीन के बीच सीमा पर गतिरोध है.

रक्षा मंत्री ने ट्वीट किया, 'आज शाम मॉस्को पहुंचा. रूसी रक्षा मंत्री जनरल सर्गेई शोइगू के साथ कल द्विपक्षीय बैठक का इंतजार कर रहा हूं.' चीन के रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंघे और पाकिस्तानी रक्षा मंत्री परवेज खटक के भी एससीओ की बैठक में हिस्सा लेने की उम्मीद है. एससीओ कार्यक्रम के इतर सिंह और वेई के बीच द्विपक्षीय बैठक की संभावना के बारे में पूछे जाने पर अधिकारियों ने कहा था कि ऐसी कोई योजना नहीं है.

इस बीच रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी किया गया एक वीडियो लोगों को खूब पसंद आ रहा है. दरअसल रक्षा मंत्री जब पहुंचे तो भारत की तीनों सेनाओं के अधिकारी वहां उनके स्वागत में थे. इस दौरान वायुसेना के अधिकारी से सिंह की मुलाकात पहले हुई. दोनों ने एक दूसरे को नमस्ते किया, हालांकि अधिकारी ने भूल से अपना हाथ आगे बढ़ा दिया लेकिन तब भी रक्षा मंत्री ने उसे नमस्ते ही किया और हालचाल पूछ कर थलसेना और नौसेना के अधिकारी की ओर मुखातिब हुए.





]

विभिन्न हथियारों और कलपुर्जों की जल्द आपूर्ति के लिए दबाव डालेंगे

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज