लाइव टीवी

PoK से विस्थापित लोगों के प्रतिनिधिमंडल ने जितेंद्र सिंह को कहा धन्यवाद

News18Hindi
Updated: October 11, 2019, 7:22 AM IST
PoK से विस्थापित लोगों के प्रतिनिधिमंडल ने जितेंद्र सिंह को कहा धन्यवाद
केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह.

केंद्र सरकार ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) से विस्थापित होकर भारत (India) के कई राज्यों में आ बसे 5300 कश्मीरी परिवारों को दिवाली का तोहफा दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2019, 7:22 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) से विस्थापित लोगों के प्रतिनिधिमंडल ने पुनर्वास पैकेज में 5,300 परिवारों को शामिल करने के सरकार के फैसले को लेकर गुरुवार को केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह (Jitendra Singh) से मुलाकात कर उन्हें धन्यवाद दिया. ये मुलाकात केंद्र सरकार की ओर से पुनर्वास पैकेज को मंजूरी देने के एक दिन बाद हुई. इस पैकेज के अनुसार पीओके से विस्थापित उन 5300 परिवारों को सरकार प्रति परिवार 5.5 लाख रुपये की दर से आर्थिक मदद देगी जो शुरुआत में जम्मू-कश्मीर से बाहर और बाद में राज्य में आकर बस गए. ये फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया.

5,300 परिवारों को मिलेगा लाभ

प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने योजना के क्रियान्वयन को लेकर कुछ स्पष्टीकरण मांगा और अनुरोध किया कि पुनर्वास पैकेज का लाभ उन सभी 5,300 परिवारों को एक समान मिले जिन्हें पहले पैकेज में शामिल नहीं किया गया था. उन्होंने प्रक्रिया को सरल रखने का आग्रह किया. इस मौके पर मंत्री ने लोगों से अफवाहों और भ्रामक सूचनाओं से बचने की अपील की और भरोसा दिया कि 31 अक्टूबर को स्थापित नयी व्यवस्था से प्रदेश और लोगों को बहुत लाभ होगा.

इन परिवारों को केंद्र की ओर से साढ़े 5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी

मोदी सरकार ने बुधवार को हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में कई बड़े फैसले लिए. केंद्र सरकार ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से विस्थापित होकर भारत के कई राज्यों में आ बसे 5300 कश्मीरी परिवारों को दिवाली का तोहफा दिया है. अब इन परिवारों को केंद्र की ओर से साढ़े 5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी, ताकि ये कश्मीर में बस सकें. जिसकी मांग काफी लंबे समय से उठ रही थी.

भाषा के इनपुट के साथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 7:22 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...