एम्‍स के पूर्व निदेशक बोले, कोरोना को लेकर लगाए गए इस अनुमान ने बढ़ा दिए केस

देश में कोरोना संक्रमण के मामले एक बार फिर तेजी से बढ़ रहे हैं.

देश में कोरोना संक्रमण के मामले एक बार फिर तेजी से बढ़ रहे हैं.

एम्‍स के पूर्व निदेशक कहते हैं कि ‘कोरोना गया’, इस उक्ति ने लोगों को लापरवाह बना दिया. लोग संस्‍थानों, दफ्तरों,पार्कों, सार्वजनिक जगहों, समारोहों में बेपरवाह होकर जुटने लगे. व‍हीं 2021 में मास्‍क के साथ ही सोशल डिस्‍टेंसिंग, सैनिटाइजर या किसी भी साफ-साफ सफाई को लेकर लोगों में 2020 जितनी तल्‍लीनता भी नहीं दिखाई दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2021, 1:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. 2020 में कहर बरपाने के बाद 2021 में एक बार फिर कोरोना ने देश में पैर पसार लिए हैं. भारत के आधा दर्जन राज्‍यों में कोरोना के मामले (Corona Cases in India) लगातार बढ़ रहे हैं. सबसे निचले स्‍तर पर पहुंचने के बाद अब संक्रमण दर धीरे-धीरे बढ़ना शुरू हो गई है. वहीं देखा जा रहा है कि पहली लहर के मुकाबले कोरोना की दूसरी लहर ज्‍यादा (Corona Second Wave) तेजी से बढ़ रही है.

महाराष्‍ट्र, पंजाब, केरल, तमिलनाडू, दिल्‍ली और मध्‍य प्रदेश में सामने आ रहे कोरोना केसेज को लेकर अब स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ भी आकलन करने में जुटे हैं. वैक्‍सीन (Vaccine) के बाद अचानक बढ़ रहे मामलों को लेकर भी असमंजस है. हालांकि ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) के पूर्व निदेशक डॉ. एमसी मिश्र का कहना है कि कोरोना को लेकर एक अनुमान ने इस बीमारी को बढ़ाने में मदद की है.

एम श्री मिश्र बताते हैं कि पिछले कुछ दिनों में कोरोना के संक्रमण की दर कम होने और वैक्‍सीन आ जाने के बाद देश में एक ऐसा माहौल बना कि अब सब ठीक हो जाएगा. इसी के चलते न केवल आम लोगों ने बल्कि सार्वजनिक रूप से भी यह कहना शुरू कर दिया कि अब कोरोना गया. कई जगहों पर यह कहा गया कि अब सब नियंत्रण में है. अब भारत या दिल्‍ली से कोरोना चला गया है. लेकिन इस बात ने ही अब मुश्किल बढ़ा दी है.

corona virus second wave, covid-19 second wave, corona cases surge, covid-19 cases surge, कोरोना वायरस सेकंड वेव, कोरोना वायरस दूसरी लहर, कोविड-19 दूसरी लहर, कोविड-19 सेकंड वेव
कोरोना को लेकर लोग लापरवाह हो रहे हैं. सार्वजनिक जगहों पर भारी संख्‍या में जुटने वाले लोगों का यह अनुमान कि कोरोना चला गया अब भारी पड़ रहा है.

वे कहते हैं कि ‘कोरोना गया’, इस उक्ति ने लोगों को लापरवाह बना दिया. सिर्फ लोगों को ही नहीं बल्कि संस्‍थानों, दफ्तरों,पार्कों, सार्वजनिक जगहों, समारोहों में लोग बेपरवाह होकर जुटने लगे. मास्‍क के साथ ही सोशल डिस्‍टेंसिंग, सैनिटाइजर या किसी भी साफ-साफ सफाई को लेकर लोगों में 2020 जितनी तल्‍लीनता नहीं दिखाई दी. अभी भी कमोबेश यही हाल है.

अभी भी नहीं बनी कोरोना की दवा

डॉ. मिश्र कहते हैं कि हमें यह याद रखने की जरूरत है कि कोरोना कहीं नहीं गया है. बल्कि हम अपनी जागरुकता से उसे दूर रखे हुए हैं और नियमों का पालन करके ही आगे भी दूर रख सकते हैं. अभी भी कोरोना की कोई दवा नहीं बनी है. वैक्‍सीन बनी है लेकिन वह अभी सभी को उपलब्‍ध होने में कुछ वक्‍त लगेगा. ऐसे में थोड़ी सी भी ढिलाई बहुत बड़े नुकसान का कारण हो सकती है. कोरोना अभी भी है. मौतें एकदम बंद तो नहीं हुई हैं. कोरोना से अभी भी लोग मर तो रहे हैं. फिर कोरोना कहां से चला गया. इसलिए लोगों को बेहद सावधान रहने की जरूरत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज