किसे पहले दी जाएगी कोरोना की वैक्सीन? दिल्ली-मुंबई में 3.25 लोगों की लिस्ट तैयार

दिल्ली-मुंबई ने फ्रंटलाइन वर्कर्स की सूची तैयार कर ली है, जिन्हें वैक्सीन में प्राथमिकता दी जाएगी.

कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के जल्द ही मिलने की खबर के बाद दिल्ली (Delhi) और मुंबई (Mumbai) में इसको लेकर तैयारी भी शुरू हो गई है. इसमें प्राथमिकता वाले समूहों की सूची बनाने से लेकर कोल्ड स्टोरेज इकाइयों की स्थापना तक का काम तेज कर दिया गया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश में तेजी से बढ़ते कोरोना (Corona) संक्रमण के मामलों के बीच अब कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) को लेकर भी चर्चा तेज हो गई है. कोरोना वैक्सीन पर काम कर रहे वैज्ञानिकों के मुताबिक अगले एक दो महीनों में टीका (Vaccine) उपलब्ध हो जाएगा. ऐसे में अब इस बात को लेकर भी चर्चा शुरू हो चुकी है कि कोरोना वैक्सीन पहले किसे दी जाएगी. कोरोना वैक्सीन के जल्द ही मिलने की खबर के बाद दिल्ली (Delhi) और मुंबई (Mumbai) में इसको लेकर तैयारी भी शुरू हो गई है. सूत्रों के मुताबिक दिल्ली सरकार ने दो लाख जब​कि महाराष्ट्र सरकार ने 1.25 लाख सरकारी और निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य कर्मचारियों की सूची तैयार की है.

    दिल्ली सरकार ने जिन लोगों को कोरोना वैक्सीन की प्रथमिकता की सूची में जगह दी है, उनमें मेडिकल, पैरामेडिकल, सुरक्षा और एलोपैथिक, स्वच्छता, दंत चिकित्सा और आयुष सुविधाओं के मंत्रालय के प्रशासनिक कर्मचारी शामिल हैं. इसके साथ डायग्नोस्टिक ​​लैब्स रेडियोलॉजी केंद्रों और फिजियोथेरेपी क्लीनिकों के कर्मचारियों को भी इस सूची में शामिल किया गया है. बता दें दिल्ली के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एलएनजेपी से लगभग 4 हजार नाम भेजे गए हैं. एलएनजेपी की लिस्ट में डॉक्टरों से लेकर सुरक्षा गार्ड तक का नाम शामिल है.

    इसे भी पढ़ें : Pfizer की कोरोना वैक्सीन से दो बीमार, जानें किस तरह के दिखने लगते हैं लक्षण

    इसके साथ ही राजीव गांधी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल में एक मंजिला इमारत को कोरोना वैक्सीन की डोज रखने के लिए तैयार किया जा रहा है. इस इमारत में कोल्ड स्टोरेज की विशेष सुविधा दी जा रही है, जिससे कोरोना वैक्सीन को सही तरीके से रखा जा सके. सूत्रों के मुताबिक यही से पूरे शहर के 600 कोल्ड स्टोरेज तक उन्हें पहुंचाने का काम किया जाएगा. राजीव गांधी सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ बीएल शेरवाल ने बताया कि इमारत में इलेक्ट्रिकल और सिविल वर्क किया जा रहा है. सभी गलियारों और दरवाजों को चौड़ा करने का काम जारी है, जिससे बड़े डीप फ़्रीज़र्स को कमरों में लाया जा सके. इसके साथ ही सेंट्रलाइज़ एयर कंडीशनिंग बनाने के लिए इलेक्ट्रिकल वर्क किया जा रहा है.

    इसे भी पढ़ें :- Covid-19 in India: देश में कोरोना केस 97 लाख के पार, 24 घंटे में मिले 29 हजार 398 नए मरीज, 414 की मौतें

    मुंबई में 1.25 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स की सूची तैयार
    इसी तरह मुंबई में लगभग 1.25 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया है. इसके साथ ही बीएमसी (मुंबई नगर निगम) ने टीकाकरण की देखरेख के लिए दस सदस्यीय टास्क फोर्स तैयार की है. इसके साथ ही 3,000 कर्मियों को वैक्सीन ट्रांसपोर्टेशन को संभालने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है. अभी तक की खबर के मुताबिक शुरुआती चरण में किंग एडवर्ड मेमोरियल (केईएम) और सायन, नायर और कूपर अस्पतालों को कोरोना वैक्सीन रखने के लिए चुना गया है. इन सभी अस्पतालों को रेफ्रिजरेटर, बर्फ के बॉक्स और विशेष कूलर का आदेश दिया गया है. इन अस्पतालों में 60 लाख कोरोना वैक्सीन को रखने की व्यवस्था करनी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.