लाइव टीवी
Elec-widget

शशि थरूर की मुश्किल बढ़ी, कोर्ट ने जारी किया वारंट, पीएम मोदी पर दिया था आपत्तिजनक बयान

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 5:03 PM IST
शशि थरूर की मुश्किल बढ़ी, कोर्ट ने जारी किया वारंट, पीएम मोदी पर दिया था आपत्तिजनक बयान
शशि थरूर और उनके वकील के उपस्थित न होने के बाद कोर्ट ने ये वारंट जारी किया.

पिछले साल नवंबर में शशि थरूर (Shashi Tharoor) के उस बयान पर बवाल मच गया था, जब उन्होंने बेंगलुरु लिटरेचर फेस्टिवल (Bangalore Literature Festival) में बोलते समय कहा था कि आरएसएस (RSS) के एक व्यक्ति ने उनसे कहा है कि पीएम मोदी शिवलिंग पर बैठे एक बिच्छू के समान हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 5:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस के नेता और तिरुवनंतपुरम से सांसद शशि थरूर के खिलाफ मानहानि के मामले में दिल्ली कोर्ट ने जमानती वारंट जारी किया है. कोर्ट में उपस्थित न होने के कारण थरूर के खिलाफ ये वारंट जारी किया गया है. चीफ मेट्रोपोलिटिन मजिस्ट्रेट नवीन कुमार कश्यप ने इस मामले में जमानती वारंट जारी किया है. साथ ही 27 नवंबर 2019 को उन्हें कोर्ट में उपस्थित रहने के लिए नोटिस भी जारी किया है.

कोर्ट ने ये नोटिस तब जारी किया जब शशि थरूर और उनके वकील केस की सुनवाई के दौरान उपस्थित नहीं हुए और न ही उन्होंने अनुपस्थित रहने की वजह बताते हुए एप्लीकेशन दी थी. केस की सुनवाई के दौरान केस दाखिल करने वाले राजीव बब्बर और उनके मुख्य वकील भी उपस्थित नहीं हुए. हालांकि उनकी ओर से इस मामले में एप्लीकेशन कोर्ट में दी गई थी.

पिछले साल नवंबर में थरूर के बयान पर उस समय बवाल उठ खड़ा हुआ था, जब उन्होंने बेंगलुरु लिटरेचर फेस्टिवल (Bangalore Literature Festival) में बोलते समय कहा था कि आरएसएस के व्यक्ति ने उनसे बातचीत के दौरान पीएम मोदी की तुलना ऐसे बिच्छू से की थी, जो शिवलिंग पर बैठा है, जिसे मारा भी नहीं जा सकता. हालांकि थरूर ने उस नेता के नाम का खुलासा नहीं किया था.

इस बयान पर दिल्ली बीजेपी नेता राजीव बब्बर ने शशि थरूर के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकद्मा दायर किया था. इसमें उन्होंने दावा किया था कि इससे लोगों की धार्मिक मान्यताएं आहत हुई हैं. अपनी शिकायत में राजीव बब्बर ने कहा था कि शशि थरूर ने यह बयान बदनीयती से दिया था जिसकी वजह से न केवल हिंदू देवता को नीचा दिखाया गया बल्कि यह अपमानजनक भी था.

यह भी पढ़ें :

क्या महाराष्ट्र में लगेगा राष्‍ट्रपति शासन? ये हैं आखिरी 5 विकल्प
क्यों नहीं मिली शिवसेना को कांग्रेस के समर्थन की चिट्ठी? पढ़ें इनसाइड स्‍टोरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 4:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com