कोर्ट ने ED को दी मंजूरी, 13 सितंबर तक हिरासत में रहेंगे डीके शिवकुमार

मनी लॉन्ड्रिंग के मामले (Money Laundering case) में दिल्ली के एक अदालत मे कर्नाटक कांग्रेस (Karnataka Congress) के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार (DK Shivkumar) को 13 सितंबर तक के लिए प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) की हिरासत में भेज दिया गया है.

भाषा
Updated: September 4, 2019, 8:47 PM IST
कोर्ट ने ED को दी मंजूरी, 13 सितंबर तक हिरासत में रहेंगे डीके शिवकुमार
कर्नाटक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार को 13 सितंबर तक के लिए प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में भेज दिया गया है.
भाषा
Updated: September 4, 2019, 8:47 PM IST
मनी लॉन्ड्रिंग के मामले (Money Laundering case) में दिल्ली के एक अदालत मे कर्नाटक कांग्रेस (Karnataka Congress) के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार (DK Shivkumar) को 13 सितंबर तक के लिए प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) की हिरासत में भेज दिया गया है. कोर्ट ने डीके शिवकुमार की जमानत याचिका खारिज करते हुए उन्हें 9 दिन के लिए ईडी की हिरासत में भेजा है.

धनशोधन के एक मामले में मंगलवार की रात गिरफ्तार किए गए शिवकुमार को विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ के समक्ष पेश किया गया. राष्ट्रीय राजधानी के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में चिकित्सीय जांच के बाद 57 वर्षीय कांग्रेस नेता को अदालत लाया गया था. हिरासत में लिए जाने के बाद डीके शिवकुमार के ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो पोस्ट किया गया. इस वीडियो में एक बयान जारी कर कहा है कि 'राजनीतिक प्रतिशोध इस देश में कानून से भी मजबूत बन चुका है.'



डीके शिवकुमार की हिरासत को मंजूरी मिलने के बाद उनके वकील ने कोर्ट में इजाज़त मांगी थी कि क्या वह कर्नाटक के लोगों को संबोधित कर सकते हैं. इस पर जज अजय कुमार कुल्हाड़ ने इसे सख्ती से मना कर दिया.
Loading...

विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ ने ईडी की मांग पर यह आदेश पारित किया जिसने शिवकुमार को हिरासत में लेकर पूछताछ करने संबंधी याचिका दायर की थी. एजेंसी ने दावा किया था कि वह जांच से कतरा रहे थे और उसमें सहयोग नहीं कर रहे थे तथा महत्त्वपूर्ण पद पर रहते हुए उनकी आय में जबर्दस्त बढ़ोतरी हुई थी.

ईडी की दलीलों का विरोध करते हुए शिवकुमार के वकील ने कहा कांग्रेस नेता से एजेंसी पहले ही 33 घंटों तक पूछताछ कर चुकी है और उनके भाग जाने का कोई खतरा नहीं है. ईडी ने शिवकुमार, नई दिल्ली में कर्नाटक भवन के कर्मचारी हनुमनथैया और अन्य के खिलाफ पिछले साल सितंबर में धनशोधन का मामला दर्ज किया था.

राहुल ने भी साधा निशाना
उधर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने ट्वीट कर कहा कि डीके शिवकुमार की इस तरह हुई गिरफ्तारी बीजेपी द्वारा सरकारी एजेंसियों का इस्तेमाल कर चुनिंदा लोगों निशाना बनाया जा रहा है जो बदले की राजनीति का उदाहरण है.

सिंघवी ने रिमांड को बताया था आधारहीन
सिंघवी ने कहा कि पुलिस रिमांड अपवाद है और इसे विवेकहीन तरीके से नहीं दिया जा सकता और शिवकुमार को हिरासत में लेकर पूछताछ करने की याचिका दुराग्रह से भरी हुई है. वह ईडी की दलीलों का विरोध कर रहे थे जिसने अदालत से कहा कि आय कर की जांच और कई गवाहों के बयानों से शिवकुमार के खिलाफ ‘‘अपराध साबित करने वाले साक्ष्यों” का खुलासा हुआ है.

एजेंसी ने दावा किया कि वह जांच से कतराते रहे और उसमें सहयोग नहीं किया तथा महत्त्वपूर्ण पद पर रहते हुए उनकी आय में जबर्दस्त बढ़ोतरी हुई थी. ईडी ने कहा कि शिवकुमार का आमना-सामना कई दस्तावेजों से कराना होगा और अवैध संपत्तियों के खुलासे के लिए उन्हें हिरासत में लेने की जरूरत है.

चार बार की थी ईडी ने पूछताछ
पूर्व कैबिनेट मंत्री और कनकपुरा सीट से मौजूदा विधायक शिवकुमार मंगलवार को चौथी बार पूछताछ के लिए ईडी के समक्ष यहां उसके मुख्यालय में पेश हुए थे. कई घंटों की पूछताछ के बाद शिवकुमार को धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया था.

(भाषा के इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें-
बीजेपी बोली- जांच एजेंसियों के पास डीके शिवकुमार के खिलाफ पुख्ता सबूत

आखिर पूर्व मंत्रियों को ED से क्यों लगता है डर?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 7:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...