लाइव टीवी

Delhi Election Result 2020: AAP के वॉररूम की आई पहली तस्‍वीर, केजरीवाल को 'रणभूमि' का हाल बताते दिखे संजय

News18Hindi
Updated: February 11, 2020, 1:38 PM IST
Delhi Election Result 2020: AAP के वॉररूम की आई पहली तस्‍वीर, केजरीवाल को 'रणभूमि' का हाल बताते दिखे संजय
दिल्‍ली में जारी मतगणना के साथ आ रहे रुझानों के बीच आम आदमी पार्टी के वॉररूम की पहली तस्‍वीर सामने आई है.

Delhi Election Result 2020: तस्‍वीर में स्‍पष्‍ट दिख रहा है कि दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) मतगणना के अब तक के रुझानों से जीत को लेकर पूरी तरह आश्‍वस्‍त हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2020, 1:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. दिल्‍ली विधानसभा चुनाव 2020 (Delhi Assembly Election 2020) के लिए शनिवार को हुई वोटिंग के बाद आज यानी मंगलवार को सभी 70 सीटों के नतीजे लगभग साफ हो चुके हैं. अब तक के रुझानों और नतीजों के मुताबिक आम आदमी पार्टी (AAP) फिर से दिल्‍ली की सत्‍ता पर काबिज होती नजर आ रही है. इस सबके बीच आम आदमी पार्टी के वॉररूम (War Room) की पहली तस्‍वीर सामने आई है. इस तस्‍वीर में आप सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) को 'रणभूमि' का हाल बताते हुए नजर आ रहे हैं. संजय सिंह सीएम अरविंद केजरीवाल को बता रहे हैं कि पार्टी फिर सरकार बनाएगी.

सीएम केजरीवाल आश्‍वस्‍त, जश्‍न के लिए अभी इंतजार
तस्‍वीर में स्‍पष्‍ट दिख रहा है कि दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल मतगणना के अब तक के रुझानों से जीत को लेकर पूरी तरह आश्‍वस्‍त हैं. हालांकि, पूरी तस्‍वीर में सिर्फ राज्‍य सरकार में मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) के चेहरे पर मुस्‍कराहट नजर आ रही है. शायद अरविंद केजरीवाल और बाकी नेता जश्‍न के लिए अंतिम फैसले का इंतजार कर रहे हैं. अभी तक आए रुझानों के मुताबिक आम आदमी पार्टी 70 सदस्‍यीय विधानसभा (Legislative Assembly) में 56 सीट पर बढ़त बनाए हुए है. वहीं, बीजेपी (BJP) पिछली बार की 3 सीट से लंबी छलांग लगाकर 14 सीट पर आगे है. वहीं कांग्रेस (Congress) एक बार फिर खाता खोलने में नाकाम नजर आ रही है.

news18
दिल्ली की जनता ने तीसरी बार अरविंद केजरीवाल पर भरोसा जताया है.


कांगेस की गलतियों से अरविंद केजरीवाल ने ली सीख
रुझानों से साफ है कि अरविंद केजरीवाल फिर दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेंगे. उन्‍होंने समय रहते कांग्रेस की गलतियों और बीजेपी की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निर्भरता से काफी कुछ सीख लिया. कांग्रेस की गलती से सीखते हुए उन्‍होंने सीधे कांग्रेस से उलझना बंद किया. वहीं, बीजेपी की पीएम मोदी पर निर्भरता को अपने पक्ष में भुनाया. वह दिल्‍ली के मतदाताओं को यह समझाने में पूरी तरह कामयाब रहे कि ये चुनाव राज्‍य की सरकार बनाने के लिए है, न कि केंद्र की. वह लोगों को ये समझाने में कामयाब रहे कि बीजेपी के पास कोई मुख्‍यमंत्री चेहरा नहीं है.

केजरीवाल ने विकास कार्यों को बनाया प्रचार का मुद्दा
लोकसभा चुनाव 2019 में आप का वोट शेयर दिल्‍ली में घटकर 18 फीसदी रह गया. इससे उन्‍होंने सीख लेते हुए केंद्र सरकार से टकराव खत्‍म किया और अपने विकास कार्यों को चुनावी मुद्दा बनाया. उन्‍होंने बिजली और पानी के बिल में कमी करने के फैसलों का प्रचार किया. इस रणनीति ने लोगों का रुझान केजरीवाल के पक्ष में किया. बीजेपी ने शाहीन बाग प्रदर्शन को हिंदुओं पर हमले के तौर पर प्रचारित किया. साथ ही आरोप लगाया कि इसमें आप का दखल है. इस पर आप ने दिल्‍ली में कानून-व्‍यवस्‍था केंद्र सरकार के अधीन होने का हवाला देकर गेंद बीजेपी के पाले में डाल दी. अरविंद केजरीवाल चुनाव प्रचार के दौरान लगातार बीजेपी पर हावी नजर आए.

ये भी पढ़ें: 2632 दिन पुरानी आम आदमी पार्टी ने कैसे लगाई जीत की हैट्रिक?

कांग्रेस नेता ने बताई हार की वजह, दिल्ली के नेताओं को बताया - दगा हुआ कारतूस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 1:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर