लाइव टीवी

Delhi Election Result 2020: गांधीनगर (GANDHI NAGAR) सीट से हारे कांग्रेस के अरविंदर सिंह लवली

News18Hindi
Updated: February 11, 2020, 5:38 PM IST
Delhi Election Result 2020: गांधीनगर (GANDHI NAGAR) सीट से हारे कांग्रेस के अरविंदर सिंह लवली
दिल्ली विधानसभा चुनाव २०२०, नई दिल्ली विधानसभा सीट: अरविंदर सिंह लवली, (Arvinder Singh Lovely), कांग्रेस.

दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम 2020: अरविंदर सिंह लवली दिल्ली चुनाव में गांधीनगर विधानसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2020, 5:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली की हाईप्रोफाइल सीट गांधीनगर से कांग्रेस के कद्दावर नेता अरविंदर सिंह लवली चुनाव हार गए हैं. बीजेपी प्रत्याशी अनिल कुमार वाजपेयी ने आप उम्मीदवार नवीन चौधरी को हराकर गांधीनगर सीट जीती है. लवली तीसरे नंबर पर रहे. अरविंदर सिंह लवली का शुमार दिल्ली के उन कद्दावर नेताओं में होता है जिन्होंने दिल्ली में कांग्रेस को 15 साल तक सत्ता में रहने में बड़ी भूमिका निभाई. उन्होंने न सिर्फ दिल्ली सरकार के कई अहम मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली बल्कि  पार्टी ने उन्हेें दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पद की भी जिम्मेदारी से साल 2015 में नवाज़ा.

गांधीनगर सीट से पहली बार हारे लवली
अरविंदर सिंह लवली दिल्ली में कांग्रेस के प्रमुख सिख चेहरा हैं. वो गांधीनगर सीट से कभी चुनाव नहीं हारे थे. गांधीनगर सीट से लवली 4 बार विधायक रह चुके हैं और इसी सीट से जीतकर शीला सरकार में मंत्री भी बने थे. 2003 में उन्हें पहली बार शीला सरकार में मंत्री पद मिला. बतौर शिक्षा मंत्री लवली ने दिल्ली स्कूलों में कई सुधार किए. दिल्ली को सभी स्कूलों में कंप्यूटर शिक्षा प्रदान करने वाला भारत का पहला राज्य बनाने का श्रेय उन्हीं को जाता है. शीला दीक्षित सरकार में कैबिनेट मंत्री रहते हुए लवली ने पब्लिक स्कूलो में आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्गों के बच्चों के लिए 20 फीसदी आरक्षण की शुरुआत की थी.

सबसे कम उम्र में विधायक बनने का रिकॉर्ड

अरविंदर सिंह लवली ने सबसे कम उम्र में दिल्ली विधानसभा चुनाव जीतने का रिकॉर्ड बनाया. साल 1998 में उन्होंने विधानसभा का पहला चुनाव जीता और फिर इसके बाद वो 2003, 2008 और 2013 तक विधानसभा सदस्य रहे. साल 2015 में अरविंदर सिंह लवली ने दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष होने की वजह से चुनाव नहीं लड़ा था.

NSUI से राजनीति की पारी 
अरविंदर सिंह लवली का जन्म 11 दिसंबर 1968 को लुधियाना में हुआ था. उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के गुरू तेग बहादुर खालसा कॉलेज से राजनीति शास्त्र में ग्रेजुएशन किया है. छात्र जीवन से ही उन्होंने राजनीति में कदम रख दिया था और एनएसयूआई के महासचिव बने. बाद में उन्हें दिल्ली प्रदेश कांग्रेस का महासचिव बनाया गया.कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का थाम लिया था हाथ
अरविंदर सिंह लवली साल 2017 में कांग्रेस का हाथ छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए. लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले वो वापस कांग्रेस में आ गए. 2020 के लोकसभा चुनाव में लवली को कांग्रेस ने पूर्वी दिल्ली से टिकट दिया था. उनका मुख्य मुकाबला बीजेपी उम्मीदवार गौतम गंभीर और आप उम्मीदवार आतिशी मार्लेना से था. लवली को गौतम गंभीर से हार का सामना करना पड़ा था.

दिल्ली के विकास में योगदान
अरविंदर सिंह लवली कांग्रेस के अलावा दिल्ली सरकार में भी कई बड़ी जिम्मेदारियां संभाल चुके हैं. वो शीला सरकार में शिक्षा, शहरी विकास और परिवहन जैसा अहम मंत्रालय संभाल चुके हैं. इस दौरान उन्होंने गांधी नगर इलाके को विकसित करने और आधारभूत संरचना को मजबूत करने में कई काम किए. इलाके में 4 महत्वपूर्ण फ्लाई ओवर, मैट्रो का लंबा नेटवर्क और सिग्नेचर टॉवर के लिए पैसे के आवंटन में लवली के योगदान को विपक्ष ने भी सराहा है. जबकि बतौर परिवहन मंत्री लवली ने दिल्ली में किलर बस के नाम से कुख्यात रह चुकी ब्लू लाइन बस को लो-फ्लोर बस से रिप्लेस करने में बड़ी भूमिका निभाई.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 11:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर