Home /News /nation /

चौपाल: बाबरपुर में कौन किस पर है भारी, क्या फिर जीतेंगे AAP के गोपाल राय?

चौपाल: बाबरपुर में कौन किस पर है भारी, क्या फिर जीतेंगे AAP के गोपाल राय?

बाबरपुर विधानसभा क्षेत्र में मुकाबला मुख्य तौर पर बीजेपी, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पार्टी के बीच है.

बाबरपुर विधानसभा क्षेत्र में मुकाबला मुख्य तौर पर बीजेपी, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पार्टी के बीच है.

बाबरपुर विधानसभा क्षेत्र (Babarpur Assembly Seat) में 12 मोहल्ला क्लीनिक का निर्माण हुआ है. साथ ही क्षेत्र में प्रसिद्ध बाबरपुर बस टर्मिनल भी है, जहां से नई दिल्ली व ओखला के लिए बसें जाती हैं.

नई दिल्ली. बाबरपुर विधानसभा क्षेत्र (Babarpur Assembly Seat) में मुकाबला मुख्य तौर पर बीजेपी (BJP), आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस (Congress) पार्टी के बीच है. इस सीट पर आम आदमी पार्टी के वर्तमान विधायक और मंत्री गोपाल राय अपने प्रतिद्वंदियों के मुकाबले मजबूत दिखाई पड़ रहे हैं. साल 1993 में बाबरपुर को विधानसभा सीट घोषित किया गया था. इस सीट से बीजेपी के दिग्गज नेता नरेश गौड़ चार बार विधायक चुने जा चुके हैं. कांग्रेस इस सीट पर मात्र एक बार ही जीत पाई है. 2015 में दिल्ली के मंत्री और आप के प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने बीजेपी के धाकड़ नेता नरेश गौड़ को हरा कर यहां से परचम लहरयाा था. 2020 के विधानसभा चुनाव में भी आप ने अपने कद्दावर नेता गोपाल राय को यहां से उम्मीदवार बनाया है. वहीं कांग्रेस से अन्वीक्षा त्रिपाठी और बीजेपी से नरेश गौड़ चुनावी मैदान में उतरकर उन्हें पुरजोर टक्कर दे रहे हैं.

बाबरपुर विधानसभा की विशेषताएं
इस विधान सभा में कदमपुरी, वेलकम, जनता कॉलोनी, कबीर नगर, न्यू जाफराबाद, सुभाष मोहल्ला, नूर ए इलाही, मौजपुर गांव, जैसे इलाके आते है जहां मुस्लिम आबादी 40 फीसदी के करीब बताई जाती है. यहां स्थानीय मुद्दा अन्य मुद्दों पर भारी दिखाई पड़ रहा है. पिछले विधानसभा चुनाव (2015) में आप के गोपाल राय को 76 हजार से ज्यादा वोट मिले थे. वही बीजेपी के दिग्गज़ नेता नरेश गॉड़ दूसरे नंबर पर रहे थे. जबकि कांग्रेस के प्रत्याशी जाकिर खान को महज 10 हजार वोट ही मिल पाए थे. इस बार फिर से गोपाल राय आम आदमी पार्टी से मैदान में है और उन्हें टक्कर देने के लिए बीजेपी के नरेश गॉड और कोंग्रेस की अन्वीक्षा त्रिपाठी जैन मैदान में उतरी हैं.



क्षेत्र की विशेषता
बाबरपुर विधानसभा क्षेत्र में 12 मोहल्ला क्लीनिक का निर्माण हुआ है. साथ ही क्षेत्र में प्रसिद्ध बाबरपुर बस टर्मिनल भी है, जहां से नई दिल्ली व ओखला के लिए बसें जाती हैं. इसके साथ ही टर्मिनल पर करीब 120 फुट ऊंचा तिरंगा झंडा लगा हुआ है, जो क्षेत्र की पहचान और शान के रूप में जाना जाता है, लेकिन इलाके में कई स्थानीय मुद्दे अभी भी विकराल रूप धारण किए हुए हैं, जिनके निबटारे को लेकर यहां की जनता टकटकी लगाए बैठी है.

प्रमुख मुद्दे
इलाके में अतिक्रमण सबसे बड़ी समस्या है. यहां कई प्रमुख मार्ग अतिक्रमण की चपेट में है. मौजपुर रोड, बाबरपुर सौ फुटा रोड, बाबरपुर बस टर्मिनल सहित अन्य मार्ग पर अवैध पार्किंग के साथ फुटपाथ पर दुकानें सजती हैं और इस वजह से सड़क पर जाम लगा रहता है.

 delhi elections, aam aadmi party, gopal rai, bjp, congress,delhi elections 2020, delhi assembly elections 2020, delhi assembly elections, गोपाल राय, आम आदमी पार्टी, बीजेपी, कांग्रेस, आप, अरविंद केजरीवाल,
आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय की प्रतिष्ठा दांव पर


जनता की राय
जनता कॉलोनी के सद्दाम ने यहां कॉलोनी में मोहल्ला क्लीनिक बनवाने के साथ ही सीसीटीवी कैमरे लगवाने को लेकर केजरीवाल सरकार की तारीफ में बढ़चढ़ बोला है. उनका कहना है कि जाफराबाद नाले की दीवार पर आकर्षक पेंटिंग करा के दिल्ली सरकार ने स्वच्छता पर भी ध्यान दिया है. वहीं इरफान केन्द्र सरकार की आलोचना CAA को लेकर करने में कोई गुरेज नहीं करते. हालांकि जानकारी के अभाव में वो कई ऐसे भ्रामक बातों का हवाला देते हैं, जिसका सीएए से कोई लेना देना नहीं है. लेकिन वो केन्द्र सरकार से मांग करते हुए कहते हैं कि मोदी सरकार जनता को बताए कि अगर किसी के पास सालों से हिन्दुस्तान में रहने के बाद भी कागजात नहीं है, तो क्या उन्हें भी देश से निकाल दिया जाएगा.



वहीं बाबरपुर के नवाजिश अली कबीर नगर में मोहल्ला क्लीनिक और सरकारी स्कूलों में हुए बदलाव को लेकर खासे उत्साहित हैं. उन्होंने अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल से निकाल कर सरकारी स्कूल में डालने की तैयारी कर ली है. इतना ही नहीं बिजली और पानी का बिल नहीं भरने की वजह से वो केजरीवाल सरकार की जोरदार प्रशंसा करते हुए नहीं थकते हैं.

गोपाल राय और आप सरकार के काम की तारीफ करने वालों में वी पी कौशिक भी हैं जो अरसा पहले रिटायर हो चुके हैं. खासकर वो एमसीडी के रवैये से नाराज हैं और इसके लिए वो बीजेपी को कसूरवार ठहराते हैं. लेकिन सीएए के मुद्दे पर आप के रवैये से नाखुश बी पी कौशिक चुनाव में वोट नहीं डालने की बात कह रहे हैं.

ये भी पढ़ें: 

चौपाल: द्वारका सीट पर प्रत्याशियों के चेहरों की हो गई अदला-बदली, शास्त्री जी के पोते की प्रतिष्ठा दांव परundefined

Tags: AAP, BJP, Congress, Delhi Assembly Election 2020, New Delhi Assembly Seat 2020

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर