Coronavirus: महाराष्ट्र की राह पर दिल्ली! ये 8 पॉइंट्स बड़े खतरे की ओर इशारा कर रहे

कम होती टेस्टिंग दर को लेकर भी एक्सपर्ट्स चिंता जता चुके हैं. उन्होंने चेतावनी जताई थी कि राजधानी में मौजूदा हालात वैसे ही नजर आ रहे हैं, जैसे मुंबई और महाराष्ट्र में थे. (फाइल फोटो: Shutterstock)

कम होती टेस्टिंग दर को लेकर भी एक्सपर्ट्स चिंता जता चुके हैं. उन्होंने चेतावनी जताई थी कि राजधानी में मौजूदा हालात वैसे ही नजर आ रहे हैं, जैसे मुंबई और महाराष्ट्र में थे. (फाइल फोटो: Shutterstock)

Coronavirus in Delhi: महाराष्ट्र (Maharashtra) और केरल के बाद राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस स्थिति बेकाबू होती नजर आ रही है. केंद्र सरकार देश के प्रभावित राज्यों को लेकर अलर्ट है. दिल्ली में दो महीनों बाद फिर सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2021, 9:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों में फिर उछाल देखा जा रहा है. अब केवल महाराष्ट्र या केरल (Kerala) ही नहीं राजधानी दिल्ली (Delhi) में हालात बिगड़ते नजर आ रहे हैं. गुरुवार को दिल्ली में दो महीनों बाद एक दिन में सबसे ज्यादा आंकड़े दर्ज किए गए. बीते कुछ हफ्तों के हालात के लिहाज से जानकार इस बात का अंदाजा लगाने में जुटे हैं कि क्या वाकई देश में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर की दस्तक हो चुकी है.

Youtube Video


वहीं, कुछ तथ्य ऐसे हैं, जो दिल्ली में स्थिति बिगड़ने की ओर इशारा कर रहे हैं...
स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, दिल्ली में गुरुवार को 409 मामले सामने आए. ये आंकड़ा बीती 9 जनवरी के बाद सबसे ज्यादा था. वहीं, राजधानी में पॉजिटिविटी दर 0.59 फीसदी पर पहुंच गई है. तीन नई मौतों के साथ कोविड के चलते जान गंवाने वालों की संख्या 10 हजार 934 हो गई है.
बुधवार को दिल्ली में 370 नए मरीज मिले, जिनमें से 3 की मौत हो गई. जबकि, मंगलवार को मरीजों का आंकड़ा 320 पर था. वहीं, 4 मरीजों ने अपनी जान गंवाई.
फरवरी में कोरोना वायरस के मामले कम होना शुरू हो गए थे. 26 फरवरी को महीने में एक दिन के सबसे ज्यादा 256 मामले दर्ज किए गए. लेकिन बीते एक हफ्ते से मरीजों की संख्या में बढ़त बरकरार है.
बुधवार को शहर में एक्टिव मामले 1900 से बढ़कर 2020 पर पहुंच गए थे. जबकि, कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 6 लाख 42 हजार 439 हो गई थी.
स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस बढ़त का जिम्मेदार लोगों के लापरवाह व्यवहार को बताते हैं. एक्सपर्ट्स और डॉक्टरों के अनुसार, लोगों समझ रहे हैं कि सबकुछ ठीक हो गया है और कोविड नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं.
कम होती टेस्टिंग दर को लेकर भी एक्सपर्ट्स चिंता जता चुके हैं. उन्होंने चेतावनी जताई थी कि राजधानी में मौजूदा हालात वैसे ही नजर आ रहे हैं, जैसे मुंबई और महाराष्ट्र में थे.
बुलेटिन में कहा गया है कि बुधवार को दिल्ली में कुल 69 हजार 810 टेस्ट किए गए. इनमें 42 हजार 187 RT-PCR टेस्ट और 25 हजार 623 रैपिड एंटीजन टेस्ट शामिल थे.
दो हफ्तों पहले महाराष्ट्र में कोरोना वायरस केस में बढ़त देखी गई थी और राज्य अब कोविड-19 प्रकोप का सामना कर रहा है. राज्य के नागपुर में 15 मार्च से 21 मार्च तक एक हफ्ते का लॉकडाउन लगाया गया है. शहर में बढ़ते मामलों के बीच यह फैसला लिया गया है. वहीं, मुंबई में आंशिक लॉकडाउन को लेकर चर्चा जारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज