लाइव टीवी

दिल्ली हिंसा: गोकुलपुरी के ACP अनुज कुमार ने बताया उस दिन के चांद बाग का हाल, कहा- शायद हमें भी मार डालेंगे

News18Hindi
Updated: February 29, 2020, 6:03 PM IST
दिल्ली हिंसा: गोकुलपुरी के ACP अनुज कुमार ने बताया उस दिन के चांद बाग का हाल, कहा- शायद हमें भी मार डालेंगे
गोकुलपुरी के एसीपी अनुज कुमार

गोकुलपुरी के एसीपी अनुज कुमार ने बताया कि उन्हें यमुना विहार की ओर से भागकर अपनी जान बचानी पड़ी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 29, 2020, 6:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) स्थित नॉर्थ ईस्ट (North East Delhi) दिल्ली के चांदबाग (Chandbagh) इलाके में हिंसक भीड़ का शिकार हुए गोकुलपुरी (Gokulpuri) के एसीपी अनुज कुमार ने मीडिया को बताया है कि उनके साथ उस दिन मौजूद डीसीपी अमित शर्मा भी उन्हीं के सामने घायल हुए थे. उन्होंने बताया कि इस हिंसा में शहीद हुए हेड कॉन्सटेबल रतन लाल भी उन्हीं के साथ थे. अनुज कुमार ने बताया कि विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों में से कुछ सर्विस लेन से रोड पर आ गए. इसके बाद अफवाह फैल गई कि पुलिस की गोलियों से बच्चे मारे गए. इसके बाद वहां हिंसा भड़क गई.

अनुज ने दावा किया कि यह 24 फरवरी की सुबह 11.30 बजे औ 12 बजे के बीच की बात है. उन्होंने बताया- मेरी और रतन लाल समेत अन्य कर्मियों की ड्यूटी चांदबाग मजार से 800 मीटर आगे लगाई गई ती. 23 तारीख को वहां वजीराबाद रोड को जाम किया गया था जिसे देर रात खुलवाया गया. हमें निर्देश मिला था कि उस रास्ते को खुला रखा जाए.'

'चांदबाग मजार के रास्ते जाते तो आसपास भीड़ मार देती'
दावा किया कि, हिंसा वाले दिन धीरे-धीरे लोग जमा होने लगे और महिलाएँ आगे थी. वे सभी वजीराबाद रोड के पास आने लगे. हमने उन्हें समझाया फिर भी वे आगे बढ़ते रहे. हमने कोशिश की कि उन्हें सर्विस रोड की ओर से पीछे किया जा सके. हमें आदेश मिले थे कि जो प्रदर्शन हो रहा है वह सर्विस रोड तक ही सीमित रहे.



अनुज ने बताया कि पुलिस की ओर से फायरिंग और फिर उसमें बच्चों के मारे जाने की अफवाह ने के चलते मौके पर भीड़ जमा हो गई. 15-20 मीटर की दूरी थी और फिर पत्थरबाजी शुरू हो गई. वहां पहले से काम चल रहा था ऐसे में पत्थर भी बहुत थे. जैसे ही पत्थरबाजी शुरू हो गई लोग हम पर हावी हो गई और हम आंसू गैस का गोला तक नहीं छोड़ पाए. इसी दौरान देखा कि डीसीपी अमित शर्मा घायल हैं. उनके मुंह से खून आ रहा था और वह डिवाइडर पर थे.

अनुज कुमार ने बताया कि उन्हें यमुना विहार की ओर से भागकर अपनी जान बचानी पड़ी. दावा किया कि अगर वह चांदबाग मजार के रास्ते जाते तो आसपास भीड़ उन्हें मार देती. उन्होंने बताया कि रतनलाल घायल हो गए थे और उन्हें अस्पताल लेकर जाया गया लेकिन वहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

यह भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा की आग में खाक हुआ तीन दशक पुराना स्कूल, दोबारा खड़ा करने में जुटे लोग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 29, 2020, 2:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर