दिल्ली HC ने शरजील इमाम की याचिका खारिज की, अभी जेल में ही रहना होगा

देशविरोधी और भड़काऊ भाषण देने के आरोपी शरजील इमाम को जनवरी में बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया गया था (फाइल फोटो)
देशविरोधी और भड़काऊ भाषण देने के आरोपी शरजील इमाम को जनवरी में बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया गया था (फाइल फोटो)

शरजील (Sharjeel Imam) ने 25 अप्रैल को साकेत कोर्ट (Saket Court) द्वारा दिए गए आदेश को चुनौती दी थी, जिसमें दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को गैर कानूनी गतिविधि (निरोधक) अधिनियम के तहत दर्ज मामले में जांच पूरी करने के लिए 90 दिन की तय सीमा से अतिरिक्त समय की इजाजत दी गई थी. अगर हाईकोर्ट ने साकेत कोर्ट के फैसले को पलट दिया होता तो शरजील इमाम को डिफॉल्ट बेल मिल जाती.

  • Share this:
नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के पूर्व छात्र शरजील इमाम (Sharjeel Imam) को दिल्ली हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है. राजद्रोह के मामले में बंद शरजील इमाम को कोर्ट ने डिफॉल्ट जमानत देने से इनकार कर दिया है. दरअसल शरजील ने 25 अप्रैल को साकेत कोर्ट द्वारा दिए गए आदेश को चुनौती दी थी, जिसमें दिल्ली पुलिस को गैर कानूनी गतिविधि (निरोधक) अधिनियम के तहत दर्ज मामले में जांच पूरी करने के लिए 90 दिन की तय सीमा से अतिरिक्त समय की इजाजत दी गई थी.

अगर हाईकोर्ट ने साकेत कोर्ट के फैसले को पलट दिया होता तो शरजील इमाम को डिफॉल्ट बेल मिल जाती. लेकिन जस्टिव वी. कामेश्वर राव द्वारा साकेत कोर्ट के फैसले को सही ठहराया गया है. अब इस ऑर्डर के बाद शरजील को जेल के भीतर ही रहना होगा.

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने दिल्ली हाईकोर्ट में जवाब दाखिल कर कहा था कि उसे शरजील इमाम के खिलाफ जांच के लिए और समय की जरूरत है. इस काम में वॉट्सऐप और टेलीफोनिक कॉल के माध्यम से मदद ली जा रही है. जांच एजेंसी ने कोरोना वायरस के चलते लागू लॉकडॉउन के दौरान शरजील से वॉट्सऐप और टेलिफोनिक कॉल के माध्यम से संपर्क किया था.




अब दिल्ली पुलिस को शरजील के खिलाफ जांच के लिए तीन महीने तक का और वक्त हासिल हो गया है. शरजील इमाम पर भारतीय दंड संहिता की धारा 153A, 124A और 505 तहत केस दर्ज किया गया है. उसे भड़काऊ भाषण देने के आरोप में बीती 28 जनवरी को बिहार के जहानाबाद जिले से गिरफ्तार किया गया था. (अमित सिंह का इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज