CBI Vs CBI: राकेश अस्थाना को दिल्ली हाई कोर्ट से राहत नहीं, जारी रहेगी जांच

सीबीआई ने 15 अक्टूबर 2018 को अस्थाना के खिलाफ FIR दर्ज करके उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे.

News18Hindi
Updated: January 11, 2019, 3:12 PM IST
CBI Vs CBI: राकेश अस्थाना को दिल्ली हाई कोर्ट से राहत नहीं, जारी रहेगी जांच
सीबीआई ने 15 अक्टूबर 2018 को अस्थाना के खिलाफ FIR दर्ज करके उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे.
News18Hindi
Updated: January 11, 2019, 3:12 PM IST
दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को राहत नहीं दी है. उनके खिलाफ जांच जारी रहेगी. हाई कोर्ट ने 10 हफ्ते में जांच पूरा करने का आदेश दिया है. उन्होंने हाई कोर्ट से FIR हटाने की मांग की थी.  राकेश अस्थाना  ने गिरफ्तारी से बचने के लिए दो हफ्ते का समय मांगा था.

पूर्व सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने कहा था कि अस्थाना के खिलाफ रिश्वतखोरी के आरोपों में FIR दर्ज करते समय सभी अनिवार्य प्रक्रियाओं का पालन किया गया था. शिकायतकर्ता हैदराबाद के कारोबारी सतीश बाबू सना ने आरोप लगाया था कि उसने एक मामले में राहत पाने के लिए रिश्वत दी थी. सना ने अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार, जबरन वसूली, मनमानापन और गंभीर कदाचार के आरोप लगाए थे. सीबीआई के डीएसपी देवेंद्र कुमार के खिलाफ भी FIR दर्ज की गई थी.

सीबीआई ने 15 अक्टूबर 2018 को अस्थाना के खिलाफ FIR दर्ज करके उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे. कारोबारी सतीश बाबू सना की शिकायत के आधार पर आरोप लगे हैं. सना से मोइन कुरैशी मामले की जांच कर रही अस्थाना की विशेष टीम ने पूछताछ की थी. कारोबारी ने आरोप लगाया था कि दुबई के एक बिचौलिये ने विशेष निदेशक से उसके कथित संबंधों की मदद से दो करोड़ रुपये की रिश्वत के बदले उनके लिए राहत का प्रस्ताव रखा था.



ये भी पढ़ें:

टीवी पर कॉफी पीना पड़ा भारी, Hotstar ने हटाया 'गंदी बातों' वाला एपिसोड

ग्रीस की यूनिवर्टीज में 'भारत से भेजे गए' जहरीले लिफाफे, मचा हड़कंप
Loading...

और भी देखें

Updated: November 12, 2018 04:23 PM ISTआलोक वर्मा के खिलाफ आरोपों पर CVC ने सीलबंद लिफाफे में SC को सौंपी रिपोर्ट, शुक्रवार को अगली सुनवाई
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...