रुक-रुककर हुई बारिश के बाद भी दिल्‍ली की हवा नहीं हुई साफ

रुक-रुककर हुई बारिश के बाद भी दिल्‍ली की हवा नहीं हुई साफ
दिल्‍ली में बुधवार सुबह रुक-रुककर हुई बारिश ने बदला मौसम का मिजाज.

मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक बुधवार को दिल्‍ली में प्रदूषण का सूचकांक 419 के करीब रहा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2018, 8:39 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
दिल्‍ली-एनसीआर में मंगलवार देर रात और बुधवार तड़के रुक-रुक कर हुई बारिश ने भले ही ठंड का अहसास कराया हो लेकिन प्रदूषण में कोई कमी देखने को नहीं मिल रही है. दो दिन से हो रही बारिश के बाद अंदाजा लगाया जा रहा था कि प्रदूषण में कमी देखने को मिलेगी लेकिन मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक बुधवार को दिल्‍ली में प्रदूषण का सूचकांक 419 के करीब रहा.

दिल्‍ली में सुबह से ही आसमान में बादल छाए रहे और रुक रुक कर हल्की बारिश शुरू हो गई. कश्मीर घाटी में मंगलवार को प्रशासन ने ऊंचे इलाकों में हिमपात के बाद सात जिलों में हिमस्खलन की चेतावनी जारी की है. एक अधिकारी ने बताया कि बर्फबारी के कारण बांदीपुरा, बारामूला, अनंतनाग, कुलगाम, बडगाम, कुपवाड़ा और गंदेरबल जिलों के हिमस्खलन का खतरा बढ़ गया है.
दिल्‍ली में बुधवार को वायु प्रदूषण के सूचकांक की बात करें तो आनंद विहार में यह 407 दर्ज किया गया, अशोक विहार में 413, आईटीओ में 380, जहांगीरपुरी में 411, लोधी रोड में 375, मुंडका में 388, नरेला में 398 और विवेक विहार में 403 सूचकांक दर्ज किया गया है. नोएडा में वायु प्रदूषण का स्‍तर 367 दर्ज किया गया है. गुरुग्राम की बात करें तो मंगलवार की तुलना में यहां भी स्‍थिति काफी खराब देखी जा रही है. गुरुग्राम में वायु प्रदूषण सूचकांक 325 दर्ज किया गया है.

क्‍या है बेहत स्‍थिति



वायु गुणवत्ता सूचकांक पर शून्य से 50 अंक तक हवा की गुणवत्ता को अच्छा, 51 से 100 तक संतोषजनक, 101 से 200 तक सामान्य, 201 से 300 के स्तर को खराब, 301 से 400 के स्तर को बहुत खराब और 401 से 500 के स्तर को गंभीर श्रेणी में रखा जाता है. वायु गुणवत्ता सूचकांक 500 से ऊपर पहुंचने पर यह 'अत्यंत गंभीर और आपात' श्रेणी में माना जाता है.
First published: November 14, 2018, 8:39 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading