दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने किया विवादित पोस्ट, 'मुस्लिमों ने अरब देशों से शिकायत की तो तूफान आ जाएगा'

File Photo
File Photo

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग (Delhi Minorities Commission) के अध्यक्ष जफरुल इस्लाम खान (Zafarul Islam Khan) अपनी फेसबुक पोस्ट की वजह से चर्चा में हैं. उनकी पोस्ट को भड़काऊ माना जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2020, 11:49 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत समेत पूरी दुनिया जब कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ रही है, तब दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग (Delhi Minorities Commission) के अध्यक्ष जफरुल इस्लाम खान दूसरी वजह से चर्चा में हैं. जफरुल इस्लाम (Zafarul Islam Khan) ने एक फेसबुक पोस्ट की है, जिस पर विवाद हो गया है. उन्होंने इस पोस्ट में लिखा कि जिस दिन भारत के मुसलमानों ने अरब और मुस्लिम देशों से अपने खिलाफ होने वाले जुल्म की शिकायत कर दी, उस दिन तूफान आ जाएगा. उनके इस पोस्ट का विरोध हो रहा है. विरोध करने वालों का कहना है कि जफरुल इस्लाम का पोस्ट धार्मिक विद्वेष बढ़ाता है और देश की छवि खराब करता है.

जफरुल इस्लाम ने अपनी फेसबुक पोस्ट में कुवैत को उसके समर्थन के लिए धन्यवाद कहा है. उन्होंने लिखा, ‘धन्यवाद कुवैत (Kuwait), भारतीय मुसलमानों के साथ खड़े होने के लिए! कट्टर हिंदुओं ने सोचा था कि अरब और मुस्लिम देश (Muslim and Arab world), अपने आर्थिक संबंधों के कारण भारत के मुसलमानों के उत्पीड़न की परवाह नहीं करेंगे.'





जफरुल इस्लाम आगे लिखते हैं, ‘ये कट्टरपंथी भूल गए कि भारत के मुसलमानों की अरब और मुस्लिम दुनिया में जबरदस्त लोकप्रियता है. भारतीय मुसलमानों ने सदियों से पूरी सद्भावना से इस्लाम की सेवा की है. उनकी गिनती इस्लाम के उत्कृष्ट विद्वानों में होती है, जिन्होंने विश्व विरासत में अपना सांस्कृतिक योगदान दिया है. शाह वलीउल्लाह देहलवी, इकबाल, अबुल हसन नदवी, वाहिदुद्दीन खान, जाकिर नाइक का नाम अरब और मुस्लिम देशों के हर घर में बड़े सम्मान से लिया जाता है.'
जफरुल इस्लाम आगे लिखते हैं, ‘अरे कट्टरपंथियो, यह जान लो कि भारतीय मुसलमानों ने अब तक अरब और मुस्लिम जगत से आपके हेट कैम्पेन, लिंचिंग और दंगों की शिकायत नहीं की है. जिस दिन उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर किया जाएगा, उस दिन कट्टरपंथियों को तूफान का सामना करना पड़ेगा.’

यह भी पढ़ें: Covid-19: पीएम मोदी ने ‘रेड जोन’ के लिए दी हिमाचल की मिसाल, जानें क्या है मॉडल

Covid-19: सरकारी अधिकारियों से लेकर पत्रकार पर अफवाह फैलाने का केस दर्ज 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज