मुखर्जीनगर मारपीट मामला: नाराज़ जज ने पुलिस से पूछा- बच्चे को कैसे घसीटा, गृह मंत्रालय से एक हफ्ते में मांगी रिपोर्ट

दिल्ली हाईकोर्ट ने जॉइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस को एक सप्ताह में कोर्ट में रिपोर्ट दायर करने को कहा है. कोर्ट का आदेश मीडिया सरबजीत के बच्चे का नाम प्रकाशित नहीं कर सकते हैं.

News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 8:54 PM IST
मुखर्जीनगर मारपीट मामला: नाराज़ जज ने पुलिस से पूछा- बच्चे को कैसे घसीटा, गृह मंत्रालय से एक हफ्ते में मांगी रिपोर्ट
मारपीट के वायरल वीडियो का स्क्रीनशॉट
News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 8:54 PM IST
दिल्ली हाईकोर्ट ने बुधवार को कहा कि उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के मुखर्जी नगर में एक ऑटो रिक्शा चालक और उसके नाबालिग बेटे पर पुलिस का हमला पुलिस की बर्बरता का उदाहरण है.

न्यायमूर्ति जयंत नाथ और न्यायमूर्ति नजमी वजीरी की पीठ ने कहा, यह पुलिस की बर्बरता का उदाहरण नहीं है, तो क्या है? इस मामले की स्वतंत्र सीबीआई जांच का अनुरोध करने वाली एक जनहित याचिका पर केंद्र सरकार, आप सरकार और दिल्ली पुलिस को अपना रुख बताने के लिए नोटिस जारी करते हुए पीठ ने यह टिप्पणी की.

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था वीडियो
गौरतलब है कि रविवार शाम ऑटो चालक सरबजीत सिंह और पुलिसकर्मियों के बीच लड़ाई का कथित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. पेशे से वकील सीमा सिंघल द्वारा दायर याचिका में मीडिया में आई खबरों का हवाला देते हुए कहा गया कि पुलिस ने ऑटो रिक्शा चालक और उसके नाबालिग बेटे को बुरी तरह से पीटा. साथ ही याचिका में मामले में मेडिकल रिपोर्ट समेत रिकॉर्ड तलब करने की मांग की गई.

मामले की स्वतंत्र जांच कराने की उठी मांग
घटना के एक वीडियो क्लिप में ऑटो चालक तलवार लेकर पुलिसकर्मियों के पीछे भागते हुए दिखाई देता है. एक अन्य वीडियो में कुछ पुलिसकर्मी ऑटो चालक और उसके बेटे की डंडों से पिटाई करते दिख रहे हैं. अधिवक्ता संगीता भारती के जरिए दायर की गई याचिका में सिंह और उसके नाबालिग बेटे पर बर्बर हमले की सीबीआई या ऐसी ही किसी एजेंसी से स्वतंत्र जांच कराने की मांग की गई है.

उचित दिशा-निर्देश तय करने का अनुरोध
Loading...

याचिका में पुलिस की बर्बरता और अत्यधिक बल प्रयोग के हिंसक कृत्यों को रोकने के लिए पुलिस सुधारों को लेकर उचित दिशा-निर्देश तय करने का अनुरोध किया गया है. साथ ही, याचिका में आग्रह किया गया है कि मीडिया को ऑटोचालक के नाबालिग बेटे की पहचान उजागर करने और या उसकी तस्वीरें या इंटरव्यू प्रसारित करने से रोका जाए.

गौरतलब है कि इस घटना के बाद दिल्ली पुलिस ने अपने तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है और जांच शुरू कर दी है.

ये भी पढ़ें 

देर रात लड़कियों के PG में घुस गया लड़का, की ऐसी हरकत

दिल्ली मेट्रो में महिला के सामने 'गंदा काम' करने लगा शख्स
First published: June 19, 2019, 6:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...