होम /न्यूज /राष्ट्र /200 करोड़ का ट्रांजेक्शन, 300 पीड़ित... चीन से बड़ी साजिश का पर्दाफाश, नौकरी तलाश रहे लोगों को बनाया शिकार

200 करोड़ का ट्रांजेक्शन, 300 पीड़ित... चीन से बड़ी साजिश का पर्दाफाश, नौकरी तलाश रहे लोगों को बनाया शिकार

दिल्ली पुलिस ने अभी तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. (सांकेतिक तस्वीर)

दिल्ली पुलिस ने अभी तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Delhi Police Cyber Crime: दिल्ली पुलिस के मुताबिक 26 सितंबर 2022 को नेशनल साइबर क्राइम पोर्टल के जरिए उन्हें एक शिकायत ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस के आउटर नॉर्थ जिले की साइबर यूनिट ने शातिर जालसाजों के एक ऐसे गैंग का भंडाफोड़ किया है जो चीन और दुबई पर आधारित अंतरराष्ट्रीय साइबर बदमाशों द्वारा घर से पार्ट टाइम ऑनलाइन नौकरी की तलाश कर रहे लोगों को अपना शिकार बना रहे थे. इनमें से एक आरोपी अभिषेक गर्ग पेटीएम का पूर्व डिप्टी मैनेजर रह चुका है. ये गैंग दिल्ली की एक लड़की और 11 हजार दूसरे लोगों को घर से ऑनलाइन नौकरी मुहैया कराने के नाम पर ठगी कर चुका है, जिसके बाद गुरुग्राम और दिल्ली में की गई छापेमारी में 3 आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक़ ऑनलाइन पार्ट टाइम जॉब रैकेट में अमेजन के नाम पर चाइनीज मॉड्यूल का इस्तेमाल हो रहा था. इसका मास्टरमाइंड जॉर्जिया से काम कर रहा है और दुबई में उसकी मूवमेंट है. उसे पकड़ने के लिए एलओसी और दूसरी प्रक्रिया शुरू की जा रही हैं. ये जालसाज लोगों को फंसाने के लिए जिन ईमेल का इस्तेमाल करते थे उनमें https://mall613.com/#/pages/regist/index?code=913767IS हैं जो स्कैम में इस्तेमाल की गई फर्जी वेबसाइट है. दिल्ली पुलिस का दावा है कि इस वेबसाइट को चीन से ऑपरेट होने वाले साइबर एक्सपर्ट ने डिजाइन किया था और टेलीग्राम आईडी के जरिए शेयर किया था जिसका आईपी चीन का है.

दिल्ली पुलिस ने कहा, ‘वेबसाइट का मॉड्यूल चीन से बना और दूसरे डिजाइन में बदलकर किया गया था. आरोपी एक अच्छी तरह से सेट वेबसाइट का इस्तेमाल कर रहे थे और प्रचार के लिए यू-ट्यूब, इंस्टाग्राम, टेलीग्राम, व्हाट्सएप और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करके इस सिस्टम के माध्यम से लोगों को ठगने के अपने व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए अलग तरीकों का इस्तेमाल कर रहे थे. ये लोग क्रिप्टो, रेज़र पे और अन्य ऐप्स का उपयोग करके ठगे गए धन की हेराफेरी कर रहे थे.’

पुलिस जांच में एक दिन में 5 करोड़ की ट्रांजेक्शन और 30 हजार पीड़ितों का सुराग हाथ लगा है. इतना ही नहीं, अब तक 200 करोड़ रुपए की ट्रांजेक्शन सामने आई है. जानकारी के मुताबिक, ‘हरियाणा के फतेहाबाद में 7 कंपनियों को पैसे ट्रांसफर किए गए. इस गैंग के द्वारा हजारों लोगों से करोड़ों रुपए ठगे गए. 7 खातों में 15 लाख रुपए से ज्यादा डेबिट फ्रीज किए गए और आगे मनी ट्रेल जारी है. इस गैंग का मास्टरमाइंड जॉर्जिया से ऑपरेट कर रहा है.’ दिल्ली पुलिस के मुताबिक 26 सितंबर 2022 को नेशनल साइबर क्राइम पोर्टल के जरिए उन्हें एक शिकायत मिली थी. पीड़िता रोहिणी इलाके की थी. उन्होंने बताया कि काम तलाशते हुए इंस्टाग्राम के जरिए वह अमेजन में ऑनलाइन पार्ट टाइम जॉब तलाशते हुए इस गैग के चंगुल में फंस गई और 1 लाख 18 हजार रुपए गंवा दिए.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक अब तक की गई जांच से संकेत मिलता है कि चीनी साइबर अपराधियों ने ऑनलाइन वर्क फ्रॉम होम जॉब या पार्ट टाइम जॉब की तलाश कर रहे लोगों को ठगने के लिए एक मॉड्यूल विकसित किया है क्योंकि एजेंसियों द्वारा कार्रवाई और लोगों में जागरूकता के कारण चीनी लोन धोखाधड़ी अब कम हो रही है. चीन के साइबर अपराधियों ने Amazon कंपनी की तरह एक फर्जी वेबसाइट बना ली. वेबसाइट चीन से रजिस्टर्ड पाई गई है. इसके बाद आरोपी फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वास्तविक अमेज़ॅन कंपनी के रूप में चित्रित करते हुए विज्ञापन करते हैं. इसके लिए उन्हें डिजिटल मार्केटिंग की मदद से लाखों लाइक्स और फॉलोअर्स मिलते हैं. इनकी आकर्षक पोस्टों से भोले-भाले युवा आकर्षित हो रहे हैं.

इसके बाद जॉब की तलाश में आए लोगों को उस वेबसाइट पर आईडी बनाने के लिए कहा जाता है और प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन बेचने का काम दिया जाता है. बेचे गए उत्पादों को दिखाकर पीड़ितों को बेवकूफ बनाया जाता है क्योंकि उनके पास उस वेबसाइट का एडमिन एक्सेस होता है और वे कोई भी बदलाव कर सकते हैं. पीड़ित अपने खाते में पैसे जमा होते हुए देख सकते हैं जो अमेज़न पे खाते की तरह लगता होता है.

खाते में दिखाई देने वाली राशि निकालने के लिए पीड़ितों को बताया जाता है कि वे बचे कार्य के अनुपात में बटुए में कुछ पैसे जोड़कर राशि निकाल सकते हैं. वॉलेट में पैसे डालने के लिए स्कैमर्स ने पीड़ितों को खाते की जानकारी मुहैया कराई. इसके लिए उन्होंने भारत में एक ऐसी मशीनरी विकसित की, जो उन्हें कुछ शेयर के लालच में चालू खाते का लाभ देती है. इस डिजिटल मनी साइफ़ोनिंग मॉड्यूल में कई लोग अलग-अलग भूमिकाओं में शामिल हैं.

Tags: China, Cyber Crime, Cyber Fraud, Delhi police

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें