पिस्टल लहराने वाले BSP नेता के बेटे के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी, होटल पर भी केस दर्ज

पिस्टल लहराने वाले BSP नेता के बेटे के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी, होटल पर भी केस दर्ज
पुलिस ने बीएसपी नेता के बेटे के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था.

कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वड्रा ने भी घटना के बाद महानगर में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर गंभीर चिंता जताई.

  • Share this:
दिल्ली के फाइव स्टार होटल में हथियार लहराने पर बसपा के पूर्व सांसद के बेटे के खिलाफ पुलिस ने लुकआउट लोटिस जारी किया है. इसके साथ ही उत्तर प्रदेश-नेपाल सीमा पर भी अलर्ट जारी किया गया है

आरोपी आशीष पांडेय लखनऊ का रहने वाला है और बसपा के पूर्व सांसद राकेश पांडेय का बेटा है. उसका भाई ऋतेश पांडेय अभी उत्तर प्रदेश से विधायक है. आशीष द्वारा हथियार लहराने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है.

दिल्ली पुलिस ने बताया कि आर्म्स एक्ट और आईपीसी की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. इसमें आघात पहुंचाने (323), आपराधिक धमकी देने (506) और महिला से छेड़छाड़ के उद्देश्य से बल प्रयोग करने (354) की धाराएं भी शामिल हैं.



पुलिस ने कहा कि शुरू में आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था और आईपीसी की धाराओं को बाद में जोड़ा गया. उन्होंने बताया कि इस बारे में उत्तर प्रदेश पुलिस से भी संपर्क किया है.
इसके अलावा पुलिस ने इस मामले की जानकारी छुपाने के लिए हयात होटल के खिलाफ भी केस दर्ज किया है. घटना की जांच के सिलसिले में दिल्ली पुलिस की एक टीम मंगलवार को लखनऊ पहुंची.


जांच से जुड़े एक अधिकारी ने बताया, ‘किसी भी पक्ष या होटल के अधिकारियों ने भी पीसीआर को फोन नहीं किया. यह होटल की तरफ से लापरवाही है क्योंकि कोई बड़ी घटना भी हो सकती थी.’

संयुक्त पुलिस आयुक्त (नई दिल्ली) अजय चौधरी ने कहा, ‘पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। हम उत्तरप्रदेश पुलिस के साथ समन्वय कर रहे हैं और टीम उसकी तलाश कर रही है.’

अजय चौधरी ने कहा, ‘वीडियो के आधार पर हमने संबंधित धाराएं जोड़ी हैं. उसके लिए लुक आउट सर्कुलर जारी किया गया है.’

डीआईजी (कानून-व्यवस्था) प्रवीण कुमार ने कहा, ‘मामले की जांच के सिलसिले में दिल्ली पुलिस की टीम यहां पहुंची है और उत्तरप्रदेश पुलिस पूरा सहयोग कर रही है.’

पुलिस ने मंगलवार को बताया कि आर के पुरम के हयात रिजेंसी होटल के सहायक सुरक्षा प्रबंधक ने सोमवार को पुलिस में इस घटना को लेकर एक शिकायत दर्ज कराई जिसके बाद लुक आउट सर्कुलर (एलओसी) जारी किया गया.

दिल्ली में हयात रिजेंसी ने कहा कि वह घटना को ‘गंभीरता’ से ले रहा है और जांच में वह अधिकारियों से सहयोग करेगा.

घटना को लेकर आम आदमी पार्टी ने केंद्र सरकार और राष्ट्रीय राजधानी में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर निशाना साधा. दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के अधीन आती है.

पार्टी प्रवक्ता दिलीप पांडेय ने कहा कि भाजपा शासित केंद्र सरकार को जवाब देना चाहिए कि उसका व्यवस्था पर नियंत्रण क्यों नहीं है जिस पर वह उपराज्यपाल के माध्यम से नियंत्रण करती है. उन्होंने पूछा कि महानगर में बढ़ते अपराध को रोकने के लिए पुलिस क्या कदम उठा रही है?

भाजपा की दिल्ली इकाई के प्रमुख मनोज तिवारी ने कहा कि घटना का सबूत सीसीटीवी फुटेज के तौर पर मौजूद है और उपयुक्त कार्रवाई के लिए उचित जांच की जानी चाहिए.

गृह राज्यमंत्री किरण रिजीजू ने बताया कि मामले में कार्रवाई शुरू कर दी गई है.

मंत्री ने ट्वीट किया, ‘मीडिया में भी नजर आ रही इस घटना पर दिल्ली पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है. आर्म्स एक्ट और आईपीसी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है. सख्त और उचित कार्रवाई की जाएगी. अन्य लोगों की भी पहचान की जा रही है.’

इस बीच बसपा ने खुद को विवाद से अलग बताया है.

पार्टी नेता सुधीन्द्र भदौरिया ने कहा, ‘आशीष पांडेय न तो बसपा का नेता है न ही सदस्य. कानून-व्यवस्था की पूरी प्रणाली मौजूद है और कानून तोड़ने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.’

कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वड्रा ने भी घटना के बाद महानगर में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर गंभीर चिंता जताई. (भाषा इनपुट के साथ)

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज