Home /News /nation /

दिल्ली दंगेः पुलिस पर क्यों तानी थी आरोपी शाहरुख पठान ने पिस्तौल? 1 साल बाद किया खुलासा

दिल्ली दंगेः पुलिस पर क्यों तानी थी आरोपी शाहरुख पठान ने पिस्तौल? 1 साल बाद किया खुलासा

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों के मामलों की कड़कड़डूमा कोर्ट में सुनवाई चल रही है. (सांकेतिक फोटो)

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों के मामलों की कड़कड़डूमा कोर्ट में सुनवाई चल रही है. (सांकेतिक फोटो)

Delhi Riots 2020: शहरुख पठान को तीन मार्च, 2020 को गिरफ्तार किया गया था और वह वर्तमान में तिहाड़ जेल में बंद है. पठान की ओर से पेश वरिष्ठ वकील मेनका गुरुस्वामी ने यह दर्शाने के लिए कि पुलिसकर्मी की हत्या का प्रयास नहीं किया गया, अदालत में इस घटना का 26 सेंकड की एक वीडियो क्लिप चलाई. वकील ने कहा कि आरोपी ने दो राउंड गोली चलाई, जिसमें से एक हवा में जबकि दूसरी दायीं ओर चलायी गई.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. उत्तर-पूर्वी दिल्ली में पिछले साल फरवरी में हुए सांप्रदायिक दंगों (Delhi riots) के दौरान दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के हेड कांस्टेबल पर पिस्तौल तानने के आरोपी शाहरुख पठान ने गुरुवार को एक अदालत से कहा कि उसने पुलिसकर्मी पर गोली नहीं चलाई और उसका इरादा पुलिसकर्मी को मारने का नहीं था, बल्कि वह केवल डराना चाहता था. हालांकि, इस दावे पर अभियोजन पक्ष ने विरोध जताया. पिछले साल हुए दंगों के दौरान पठान के हेड कांस्टेबल दीपक दहिया पर पिस्तौल तानने की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी.

    शहरुख पठान को तीन मार्च, 2020 को गिरफ्तार किया गया था और वह वर्तमान में तिहाड़ जेल में बंद है.  पठान की ओर से पेश वरिष्ठ वकील मेनका गुरुस्वामी ने यह दर्शाने के लिए कि पुलिसकर्मी की हत्या का प्रयास नहीं किया गया, अदालत में इस घटना का 26 सेंकड की एक वीडियो क्लिप चलाई. वकील ने कहा कि आरोपी ने दो राउंड गोली चलाई, जिसमें से एक हवा में जबकि दूसरी दाईं ओर चलाई गई. उन्होंने कहा कि इसके बाद आरोपी की दहिया से बहस हुई और वह वापस लौट गया.

    ये भी पढ़ेंः-  मनोहर पर्रिकर के बेटे ने दी बीजेपी को बगावत की धमकी!, कहा-टिकट ना मिला तो लूंगा कड़ा फैसला

    इसके बाद अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत ने वकील को दोबारा वीडियो चलाने को कहा और हवा में गोली चलाए जाने से ठीक पहले पठान की पिस्तौल की स्थिति पर ध्यान केंद्रित किया.  न्यायाधीश ने कहा, ” बंदूक (पिस्तौल) की स्थिति को देखिये. इसका निशाना सीधा है (दहिया पर). जब वह निशाना साध रहा है, तो बंदूक सीधी है.” हालांकि, बचाव पक्ष की वकील ने स्पष्टीकरण दिया कि दोनों बार चलायी गई गोली का निशाना हेड कांस्टेबल नहीं थे. उन्होंने कहा, ” राज्य का मामला दहिया पर आधारित है. वह संभावित पीड़ित हैं और उन पर गोली नहीं चलायी गई. पहली गोली हवा में और दूसरी गोली दायीं ओर चलायी गई.”

    ये भी पढ़ेंः- तमिल ब्राह्मणों को शादी के लिए नहीं मिल रही दुल्हन, 40 हजार से अधिक युवा कुंवारे, जानें क्या है वजह

    वहीं, पुलिस की ओर से पेश विशेष लोक अभियोजक अनुज हांडा ने कहा कि आरोपी ने साफ तौर पर पुलिसकर्मी पर पिस्तौल तानी थी. बचाव पक्ष की दलीलों का विरोध करते हुए हांडा ने कहा, ” बंदूक (पिस्तौल) को शिकायकर्ता के सिर से थोड़ा नीचे ताना गया. कई गोलियां चलाने के कारण पीछे हटने की वजह से उसका हाथ ऊपर की ओर जा रहा है.”

    Tags: Delhi police, Delhi riots, Delhi riots case

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर