Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Delhi Violence : आरोपी उमर खालिद ने दिल्ली पुलिस पर लगाए आरोप, कहा-मुझे किसी से बात तक करने नहीं दी जा रही

    दिल्ली हिंसा मामले में आरोपी है उमर खालिद.
    दिल्ली हिंसा मामले में आरोपी है उमर खालिद.

    उमर खालिद जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (Jawaharlal Nehru University) के पूर्व छात्र हैं. दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) से तार जुड़े होने को लेकर उन्हें 23 सितंबर को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था. उमर गुरुवार को शरजील इमाम के साथ दिल्ली कोर्ट में पेश हुए थे. दिल्ली पुलिस ने कस्टडी बढ़ाने की मांग की है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 22, 2020, 8:42 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में हुई फरवरी में हिंसा (Delhi Violence) के मामले में न्यायिक हिरासत (Judicial custody) में रह रहे उमर खालिद (Umar Khalid) ने पुलिस पर आरोप लगाए हैं. गुरुवार को दिल्ली कोर्ट में सुनवाई के दौरान खालिद ने कहा कि उन्हें किसी से मिलने तक नहीं दिया जा रहा है. खालिद को दिल्ली हिंसा से तार जुड़े होने के चलते कोर्ट ने बीती 24 सितंबर को 22 अक्टूबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा था. हालांकि, पुलिस ने एक महीने और हिरासत की मांग की है.

    जेल अधीक्षक के इशारे पर हो रहा है ऐसा व्यवहार: खालिद
    कोर्ट में खालिद ने कहा, 'सिक्योरिटी का मतलब यह नहीं होता कि मुझे इसी तरह से सजा दी जानी चाहिए.' उन्होंने कहा कि सेल में हमेशा बंद रखे जाने के कारण वो कुछ दिनों से केवल शारीरिक ही नहीं, बल्कि मानसिक रूप से बीमार महसूस कर रहे हैं. यह एक तरह का एकांत कारावास है. उन्होंने आरोप लगाए कि यह सब जेल अधीक्षक के इशारे पर हो रहा है. हालांकि, कोर्ट ने जेल अधीक्षक (Jail superintendent) को शुक्रवार को अदालत के सामने पेश होने के लिए समन भेजा है.


    सुरक्षा के लिए खालिद ने दायर की थी याचिका


    जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र खालिद ने सुरक्षा के लिए याचिका दायर की थी. जिसमें उन्होंने अपने वैचारिक मतभेद होने का हवाला दिया था. इसके बाद 17 अक्टूबर को कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को खालिद के लिए सुरक्षा इंतजाम बेहतर करने के आदेश दिए थे. खालिद को पुलिस ने गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया था.

    खालिद ने कोर्ट से कहा, 'मुझे सुरक्षा चाहिए, लेकिन ऐसी सुरक्षा नहीं हो सकती कि मैं बाहर निकल ही नहीं सकता. यह एक सजा की तरह है, मुझे यह सजा क्यों दी जा रही है.' खालिद एडीशनल सेशन जज अमिताभ रावत के सामने पेश हुए थे. उनके साथ दिल्ली हिंसा के मामले में एक और आरोपी शरजील इमाम (Sharjeel Imam) भी थे. दिल्ली पुलिस की तरफ से पेश हुए विशेष अभियोजक अमित प्रसाद ने अदालत से खालिद और इमाम की 30 दिन की हिरासत की मांग की.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज