लाइव टीवी

दिल्ली की एयर क्वालिटी 'बेहद खराब' हुई, शुक्रवार तक 'गंभीर' श्रेणी में जाने का अनुमान

भाषा
Updated: November 20, 2019, 11:38 PM IST
दिल्ली की एयर क्वालिटी 'बेहद खराब' हुई, शुक्रवार तक 'गंभीर' श्रेणी में जाने का अनुमान
केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) बुधवार शाम चार बजे 301 रहा (फाइल फोटो)

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) बुधवार शाम चार बजे 301 रहा, जो ‘बेहद खराब’ (Very Poor) श्रेणी में आता है.

  • भाषा
  • Last Updated: November 20, 2019, 11:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (National Capital Region) में वायु की गुणवत्ता बुधवार को बेहद खराब श्रेणी में पहुंच गयी. हवा की गति कम होने और पराली जलाये जाने (Stubble Burning) की घटनाओं में वृद्धि के कारण वायु गुणवत्ता (Air Quality) के अगले दो दिनों में गंभीर श्रेणी में पहुंचने का अनुमान जताया गया है.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) बुधवार शाम चार बजे 301 रहा, जो ‘बेहद खराब’ श्रेणी में आता है. मंगलवार को शाम चार बजे यह 242 रहा था.

गाजियाबाद में वायु गुणवत्ता सूचकांक रहा 366, नोएडा में 320 और ग्रेटर नोएडा में 340
दिल्ली (Delhi) के पड़ोसी क्षेत्र गाजियाबाद (Ghaziabad) में वायु गुणवत्ता सूचकांक 366 दर्ज किया गया, जो बुधवार को देश का सबसे प्रदूषित जगह रहा. वहीं ग्रेटर नोएडा में वायु गुणवत्ता सूचकांक 340, जबकि नोएडा में 320 दर्ज किया गया.

201 से लेकर 300 के बीच एक्यूआई (AQI) को ‘‘खराब’’, 301 से 400 के बीच ‘‘बहुत खराब’’ और 401 से 500 के बीच ‘‘गंभीर’’ श्रेणी का माना जाता है.

दिल्ली के कुछ हिस्सों में वायु गुणवत्ता शुक्रवार तक गंभीर श्रेणी में कर सकती है प्रवेश
सरकार की वायु गुणवत्ता निगरानी और पूर्वानुमान सेवा ‘सफर’ (SAFAR) ने कहा कि दिल्ली के कुछ हिस्सों में वायु गुणवत्ता शुक्रवार तक गंभीर श्रेणी में प्रवेश कर सकती है. ऐसा मुख्य रूप से दो कारणों से होगा- दिल्ली में सर्द हवाओं की गति कम होने से प्रदूषकों (Pollutants) के बिखराव में कमी आना और पिछले हफ्ते की तुलना में पराली जलाये जाने (Stubble Burning) की घटना में अत्यधिक वृद्धि होना.
Loading...

मौसम विशेषज्ञों (Weather Experts) ने कहा कि एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ से हवा की गति बढ़ने की उम्मीद है जिससे प्रदूषण के स्तर को नीचे लाने में मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ें: ...तो सांभर झील में इस बैक्टीरिया की वजह से मर रहे हैं हजारों पक्षी!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 11:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...