होम /न्यूज /राष्ट्र /

दिल्ली: कोविड के घटते आंकड़ों का दिखा असर, वापसी करने लगे हैं प्रवासी मजदूर

दिल्ली: कोविड के घटते आंकड़ों का दिखा असर, वापसी करने लगे हैं प्रवासी मजदूर

राजधानी दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 19 अप्रैल को लॉकडाउन की घोषणा की थी. (फोटो: Twitter/ANI)

राजधानी दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 19 अप्रैल को लॉकडाउन की घोषणा की थी. (फोटो: Twitter/ANI)

Coronavirus in Delhi: कोरोना वायरस की दूसरी लहर (Second Wave) की शुरुआत में ही देश के बड़े शहरों में काम करने वाले मजदूरों ने घर लौटने का फैसला कर लिया था. बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और सड़कों पर गांव से शहर आकर काम करने वालों की संख्या में इजाफा दर्ज किया गया था.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों में गिरावट दर्ज की जा रही है. अच्छी खबर है कि लॉकडाउन (Lockdown) के डर से अपने गांव लौटे प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) ने दोबारा राजधानी का रुख करना शुरू कर दिया है. अप्रैल की शुरुआत से ही दिल्ली, मुंबई, पुणे समेत कई बड़े शहरों से मजदूरों का लौटना शुरू हो गया था. इधर, सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने भी प्रवासी मजदूरों के पंजीकरण की धीमी रफ्तार पर टिप्पणी की थी और कम्युनिटी किचन की शुरुआत करने के आदेश दिए थे.

    समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, प्रवासी मजदूरों ने दिल्ली लौटना शुरू कर दिया है. सभी राजधानी में घट रही संक्रमितों की संख्या को अपनी वापसी की वजह बता रहे हैं. एजेंसी से बातचीत में एक मजदूर रईस ने कहा, 'मैं बिहार से हूं. मामले कम हो गए हैं इसलिए मैं अपनी जीविका के लिए दिल्ली लौट आया हूं.' एक अन्य व्यक्ति सुरेंद्र ने बताया, 'मैंने न्यूज में देखा था कि दिल्ली में आंकड़े गिर रहे हैं. इसलिए मैंने वापसी की.'



    यह भी पढ़ें: फिर नजर आईं 2020 की तस्वीरें, लॉकडाउन के डर से घर लौट रहे प्रवासी मजदूर

    कोरोना वायरस की दूसरी लहर की शुरुआत में ही देश के बड़े शहरों में काम करने वाले मजदूरों ने घर लौटने का फैसला कर लिया था. बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और सड़कों पर गांव से शहर आकर काम करने वालों की संख्या में इजाफा दर्ज किया गया था. उस दौरान मजदूरों ने कहा था कि वे साल 2020 जैसी स्थिति से बचना चाहते हैं. बीते साल कोरोना वायरस महामारी की पहली लहर के दौरान लगे लॉकडाउन में कई मजदूर फंस गए थे. ऐसे में उन्होंने पैदल ही अपने घरों तक रास्ता तय करने का फैसला किया था.

    राजधानी दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 19 अप्रैल को लॉकडाउन की घोषणा की थी. बीती 23 मई को दिल्ली सरकार ने लगातार 5वीं बार लॉकडाउन का समय बढ़ाने की घोषणा की थी. 6 हफ्तों से लॉकडाउन के दौर से गुजर रही दिल्ली को कोविड-19 संक्रमण के मामलों में राहत मिली है. राजधानी में रोज औसतन मिल रहे 23 हजार 686 मरीजों का आंकड़ा गिरकर बुधवार को 2 हजार 108 पर गया. पॉजिटिविटी रेट भी 26.1 प्रतिशत से कम होकर 1.9 फीसदी हो गया है. मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि केजरीवाल सरकार 31 मई से अलग-अलग चरणों में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू कर सकती है.

    Tags: Coronavirus, Delhi, Lockdown, Migrant Workers

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर