Delhi Violence: गोलीबारी, आगजनी और मौतों के बीच महज 24 घंटे में यूं हिंसा की चपेट में आई देश की राजधानी

दिल्‍ली में नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 के खिलाफ हिंसक प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है. प्रदर्शनों में 24 घंटे से भी कम समय में एक पुलिस कांस्‍टेबल समेत 7 लोगों की मौत हो चुकी है.

दिल्‍ली पुलिस ने लोगों से शांति की अपील की है. साथ ही उत्‍तर-पूर्वी दिल्‍ली (North-East Delhi) के ज्‍यादातर इलाकों में धारा-144 (Section-144) लागू कर दी गई है. बाबरपुर (Babarpur) से आम आदमी पार्टी (AAP) विधायक गोपाल राय (Gopal Rai) ने पुलिस पर मूकदर्शक बने रहने का आरोप लगाया है.

  • Share this:
    शिवांश शर्मा

    नई दिल्‍ली. नागरिकता संशोधन कानून 2019 (CAA 2019) के खिलाफ देश की राजधानी दिल्‍ली (Delhi) में उग्र प्रदर्शन और हिंसा (Violence) का सिलसिला सोमवार के बाद मंगलवार को भी दिन निकलते ही शुरू हो चुका है. इस हिंसा में अब तक एक पुलिस कांस्‍टेबल समेत 7 लोगों की मौत हो चुकी है. सीएए के समर्थकों और विरोधियों के बीच भी पत्‍थरबाजी (Stone Pelting) की घटनाएं हुई हैं. दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) और अर्द्धसैनिक बलों (Paramilitary Forces) की मौजूदगी में उपद्रवियों ने सार्वजनिक संपत्ति को ही नुकसान नहीं पहुंचाया, बल्कि आम लोगों के वाहनों, दुकानों में भी आग लगा दी.

    गोपाल राय ने पुलिस पर मूक दर्शक बने रहने का लगाया आरोप
    दिल्‍ली पुलिस ने शांति की अपील की है. साथ ही उत्‍तर-पूर्वी दिल्‍ली (North-East Delhi) के ज्‍यादातर इलाकों में धारा-144 (Section-144) लागू कर दी गई है. बाबरपुर (Babarpur) से आम आदमी पार्टी (AAP) विधायक गोपाल राय (Gopal Rai) ने पुलिस पर मूकदर्शक बने रहने का आरोप लगाया है. उन्‍होंने कहा कि सोमवार और मंगलवार की दरम्‍यानी रात हथियारबंद गुंडे (Armed Goons) उनके विधानसभा क्षेत्र में खुलेआम घूमते रहे और पुलिस हाथ पर हाथ रखे बैठी रही. हिंसा के दौरान News18 घटनास्‍थलों पर मौजूद रहा.

    जाफराबाद मेट्रो स्‍टेशन के विरोध-प्रदर्शन में थीं ज्‍यादातर महिलाएं
    जाफराबाद में सीएए के खिलाफ लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. इनमें ज्‍यादातर महिलाएं थीं. प्रदर्शनकारी जाफराबाद मेट्रो स्‍टेशन (Jafrabad Metro Station) के नजदीक सड़क पर बैठकर विरोध जता रहे थे. मेट्रो स्‍टेशन की दीवार पर स्‍प्रे पेंट से सीएए के विरोध में नारे लिखे हुए थे. बड़ी संख्‍या में दिल्‍ली पुलिस के जवान और अर्द्धसैनिक बल तैनात थे. प्रदर्शन स्‍थल के नजदीक ही एक स्‍कूल में स्‍टूडेंट्स बोर्ड परीक्षाओं के लिए पहुंच रहे थे. कुछ स्‍टूडेंट्स के परिजन सरकारी स्‍कूल के बाहर खड़े अपने बच्‍चों के बाहर आने का इंतजार कर रहे थे. ज्‍यादातर लोग अपने मोबाइल फोन पर हिंसक प्रदर्शन से जुड़ी खबरें पढ़ते नजर आ रहे थे.

    भीम आर्मी कार्यकर्ता भी जाफराबाद के प्रदर्शन में हो गए शामिल
    शाहीन बाग (Shaheen Bagh) की तरह जाफराबाद मेट्रो स्‍टेशन की नजदीकी सड़क पर सीएए के विरोध में प्रदर्शन करने वाले करीब 600 लोगों ने शनिवार से कब्‍जा जमा रखा है. हालांकि, यहां भी जनवरी से सीएए और एनआरसी (NRC) के विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं. प्रदर्शनकारियों ने शनिवार को फैसला किया कि एक सड़क को बंद कर दिया जाए. भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर आजाद ने समर्थकों से सीएए के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल होने को कहा था. लिहाजा, भीम आर्मी कार्यकर्ता भी सोमवार को जाफराबाद प्रदर्शन में जुट गए. पूरे दिन जफराबाद शांत रहा, जबकि उत्‍तर-पूर्वी दिल्‍ली के ज्‍यादातर इलाके हिंसा की चपेट में आ चुके थे.

    बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कहा- हमें भी सड़क पर उतरना होगा
    नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में मौजपुर चौराहे (Maujpur Chowk) पर करीब 800 लोग प्रदर्शन कर रहे थे. प्रदर्शन को 24 घंटे भी नहीं हुए थे कि सीएए के विरोधियों ने पथराव कर दिया. इसके बाद दोनों तरफ से जमकर पत्‍थरबाजी हुई. बाद में बीजेपी नेता कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) ने घटनास्‍थल का दौरा किया और जाफराबाद की सड़क को तीन दिन में खाली करने की मांग की. उन्‍होंने कहा कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो हमें भी सड़कों पर उतरना होगा. मौजपुर चौराहे पर सोमवार सुबह बड़ी संख्‍या में लोग जमा हो गए. मौजपुर चौक पर सीएए का विरोध करने वालों के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले लोग देशभक्ति गीत गाते हुए सुने जा सकते थे.

    मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्‍टेशन के नजदीक हुई पहली हिंसा की घटना
    विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर जाफराबाद, गोकुलपुरी (Gokulpuri), जौहरी एंक्‍लेव (Johri Enclave) और शिव विहार (Shiv Vihar) के मेट्रो स्‍टेशनों को सुरक्षा के नजरिये से बंद कर दिया गया. मौजपुर में सीएए के समर्थन में बैठे लोग एक तरफ जाफराबाद और दूसरी तरफ यमुना विहार (Yamuna Vihar) में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों के बीच सैंडविच की तरह फंसे हैं. इसी मौजपुर-यमुना विहार के बीच सोमवार को हिंसक प्रदर्शन हुए. हिंसा की पहली घटना इसी रूट पर मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्‍टेशन के नजदीक हुई. दोपहर 12 बजे के बाद दोनों गुटों में पत्‍थरबाजी शुरू हो गई. दिल्‍ली पुलिस ने कानून व्‍यवस्‍था और शांति बनाए रखने के लिए मौजपुर और यमुना विहार को ब्‍लॉक करने के लिए ह्यूमन चेन बनाई.

    खुद को बचाने के लिए इधर-उधर भागते नजर आए पुलिसकर्मी
    पुलिस की कोशिशों के बाद भी हिंसक प्रदर्शन जारी रहा. उग्र भीड़ ने पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों पर पथराव शुरू कर दिया. पुलिस को हालात पर काबू पाने और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस (Tear Gas) के गोले दागने पड़े. हालांकि, हुआ इसके एकदम उलट. वर्दीधारी जवानों को खुद को बचाने के लिए इधर-उधर भागना पड़ा. भारी पथराव के कारण कई पुलिसकर्मी घायल हो गए. इसके बाद सीआरपीएफ कंपनियों (CRPF Companies) की मदद मिलने पर दिल्‍ली पुलिस ने उपद्रवियों को लाठीचार्ज (Lathicharge) कर तितर-बितर किया.

    पुलिस ने कबीर नगर में जाकर छुपे प्रदर्शनकारियों में एक को पकड़ा
    मेट्रो स्‍टेशन से खदेड़े गए सीएए विरोधी प्रदर्शनकारी नजदीकी कबीर नगर (Kabir Nagar) की ओर दौड़ लिए. वे घनी आबादी वाली कॉलोनी में जाकर छुप गए. उन्‍हें तितर-बितर करने के लिए छह राउंड आंसू गैस के गोले दागे गए. प्रदर्शनकारी पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों पर पत्‍थर और कांच की बोतलें (Glass Bottels) फेंकते हुए नजर आ रहे थे. करीब 15 मिनट बाद पुलिस प्रदर्शनकारियों को खदेड़ते हुए कबीर नगर में घुस गई. पुलिस ने एक प्रदर्शनकारी को पकड़कर हिरासत में ले लिया. करीब आधे घंटे बाद कुछ प्रदर्शनकारियों ने बाहर निकलकर शांति की अपील की. इसके बाद डीसीपी नॉर्थ-ईस्‍ट वेद प्रकाश सूर्या (Ved Prakash Surya) ने कहा कि हालात काबू में हैं.

    हेलमेट और गीले मास्‍क पहनकर आए थे सीएए का विरोध कर रहे लोग
    यमुना विहार में मौजपुर मार्ग पर दोपहर 1.22 बजे सीएए का विरोध कर रही भीड़ उग्र हो गई और लोगों ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया. भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे. प्रदर्शनकारी इसके लिए भी तैयार थे. वे हेलमेट पहनकर प्रदर्शन कर रहे थे. उन्‍होंने आंसू गैस के असर को कम करने के लिए पानी में भीगे मास्‍क लगा रखे थे. शाम होते-होते भजनपुरा और चांद बाग में श्रभी हिंसा शुरू हो गई. भजनपुरा में सीएए का विरोध करने वाले लोगों ने एक पेट्रोल पंप को आग के हवाले कर दिया. चांद बाग में कांस्‍टेबल रतन लाल जख्‍मी हो गए, जिन्‍हें डॉक्‍टरों ने मृत घोषित कर दिया. शाहदरा के डीसीपी अमित शर्मा की कार को उपद्रवियों ने आग लगा दी. शर्मा चांद बाग इलाके में प्रदर्शन के दौरान जख्‍मी भी हो गए.

    ये भी पढ़ें: नॉर्थ-ईस्‍ट दिल्‍ली में महीनेभर के लिए धारा 144 लागू, अब तक 7 की मौत

    Delhi Violence: फायर डिपार्टमेंट बोला- उपद्रवियों ने की फायरमैन को जिंदा जलाने की कोशिश

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.