दिल्ली हिंसा: नताशा नरवाल समेत तीनों आरोपियों की जमानत के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची पुलिस

कोर्ट ने नताशा, देवांगना कालिता और तन्हा को नियमित जमानत दे दी.

Delhi Violence: नरवाल और कालिता जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में रिसर्च स्कॉलर्स हैं. जबकि, तन्हा जामिया मिल्लिया इस्लामिया का छात्र है. नरवाल को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने बीते साल मई में गिरफ्तार किया था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली दंगे (Delhi Riots) के आरोपी कहे जा रहे नताशा नरवाल (Natasha Narwal) समेत तीन आरोपियों की जमानत के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का रुख किया है. पुलिस ने अदालत से मामले में पुनर्विचार की मांग की है. मंगलवार को तीनों यूनिवर्सिटी छात्रों को हाईकोर्ट ने जमानत दे दी थी. नरवाल के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत मामला दर्ज किया गया था.

    नताशा नरवाल, आसिफ इकबाल तन्हा और देवांगना कालिता को मिली जमानत के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. याचिका में पुलिस ने दिल्ली हाईकोर्ट की तरफ से सुनाए गए फैसले पर पुनर्विचार की मांग की है. हाईकोर्ट ने बीते मंगलवार को 50 हजार रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दे दी थी. जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और जस्टिस अनूप जे भंभानी की बेंच ने यह फैसला सुनाया था.

    यह भी पढ़ें: Delhi Riots: दिल्ली हाईकोर्ट ने 'पिंजरा तोड़' एक्टिविस्ट नताशा, देवांगना और आसिफ को दी जमानत

    नरवाल और कालिता जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में रिसर्च स्कॉलर्स हैं. जबकि, तन्हा जामिया मिल्लिया इस्लामिया का छात्र है. नरवाल को दिल्ली पुलिस ने बीते साल मई में गिरफ्तार किया था. उन पर दिल्ली में CAA/NRC को लेकर हुए प्रदर्शनों के दौरान दंगा भड़काने की साजिश में शामिल होने के आरोप थे. साथ ही तीनों को यह आदेश दिए गए हैं कि वे जांच में सहयोग करेंगे और बगैर इजाजत के देश के बाहर नहीं जाएंगे.

    भाषा के अनुसार, इन तीनों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था. बाद में सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान की रोकथाम संबंधी कानून, 1984, हथियार कानून 1967 और यूएपीए की धाराओं के तहत भी आरोप लगाए गए थे. हालांकि, नताशा बीते माह ही अपने पिता की अंतिम संस्कार के लिए जेल से बाहर आई थीं. उनके पिता का कोरोना वायरस संक्रमण के चलते निधन हो गया था. उनके पिता कम्युनिस्ट पार्टी के नेता थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.