केंद्र सरकार का फैसला- दिल्ली के लोगों को दिखे कोरोना का एक भी लक्षण तो कराएं टेस्ट

दिल्ली में लगातार कोरोना के मामलों में इजाफा हो रहा है. (AP)
दिल्ली में लगातार कोरोना के मामलों में इजाफा हो रहा है. (AP)

Coronavirus Cases in India: भूषण ने कहा कि हम मानते हैं कि कुछ राज्यों में इलेक्शन और त्योहारों का कोरोना वायरस के मामलों पर बढ़ा असर इस हफ्ते में देखने को मिल सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 6:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राजधानी में कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार (Central Government) ने कई नियमों में बदलाव किए हैं. इसके मुताबिक अगर किसी व्यक्ति में कोरोना संक्रमण का एक भी लक्षण है तो उसे जांच करवानी होगी. इसके अलावा दिल्ली (Delhi) में आने में कुछ दिनों में 6000 से ज्यादा आईसीयू बेड (ICU Beds) तैयार किए जाएंगे. इसके अलावा ट्रेनों में भी बेड तैयार कराए जाएंगे. करीब ऐसे 800 बेड आने वाले समय में तैयार रखे जाएंगे. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने साप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, केरल और महाराष्ट्र में देश के 76.7 प्रतिशत एक्टिव मामले हैं.

सरकार ने बताया कि दिल्ली में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए उठाये जाने वाले कदमों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाना, जांच क्षमता दोगुनी करना और आरटी-पीसीआर तथा आरएटी जांचों का सही अनुपात रखना शामिल हैं. नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल ने बताया कि दिल्ली में सभी कंटेनमेंट जोन में घर-घर सर्वे कराया जाएगा. उन्होंने कहा कि ऐसा अन्य जगहों पर भी किया जाएगा. पॉल ने बताया कि इसके लिए सात से आठ हजार टीमों को लगाया जाएगा. पॉल ने बताया कि दिल्ली में फिलहाल 3500 आईसीयू बेड्स उपलब्ध हैं जो कि आने वाले समय में बढ़ाकर 6000 तक कर दिए जाएंगे. पॉल ने बताया कि सरदार वल्लभभाई पटेल कोविड अस्पताल में 537 नए आईसीयू बेड लगाए जाएंगे.

ये भी पढ़ें- WHO ने कहा- कोरोना को लेकर यूपी सरकार की रणनीति दूसरे राज्‍यों के लिए नज़ीर



स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि चुनाव, दुर्गा पूजा, दिवाली का असर आने वाले सप्ताहों में देखने को मिल सकता है, हमें नये मामलों पर बहुत सावधानी से नजर रखनी होगी.
देश में साढ़े 12 करोड़ से ज्यादा लोगों की हुई जांच
स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बताया गया कि देश में अब तक कोविड-19 के लिए 12.65 करोड़ से अधिक नमूनों की जांच की जा चुकी है. इसके अलावा देश में संक्रमण की दर कम होकर 7.01 प्रतिशत हो गई है. सरकार की ओर से बताया गया कि पिछले सप्ताह रोजाना औसत 46,701 संक्रमित स्वस्थ हुए, वहीं इसी अवधि में संक्रमण के रोजाना 40,365 नये मामले सामने आए. स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी कि देश में कोविड-19 के कुल उपचाराधीन मरीजों में से 76.6 प्रतिशत रोगी महाराष्ट्र, दिल्ली, केरल और पश्चिम बंगाल समेत दस राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में हैं.

मंत्रालय की ओर से बताया गया कि दिल्ली के अस्पतालों में आईसीयू के बिस्तरों की क्षमता अगले तीन-चार दिन में मौजूदा 3,523 से बढ़ाकर 6,000 की जाएगी.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि आईसीएमआर, सरकारी प्रयोगशालाएं एक दिन में 10,000 अधिक जांच करेंगी, 10 चल प्रयोगशालाएं भी होंगी, हम अनुसंधान संस्थानों की क्षमता का भी उपयोग करेंगे. मंत्रालय की ओर से यह भी बताया गया कि संक्रमण से प्रति दस लाख आबादी पर मृत्यु के मामलों में भी भारत दुनिया में सबसे कम मृत्यु दर वाले देशों में शामिल है, भारत में यह दर 94 प्रति दस लाख है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज