भारत को लेफ्ट की जरूरत, दुर्भाग्यपूर्ण होगा उसका खात्मा: जयराम रमेश

भारत को लेफ्ट की जरूरत, दुर्भाग्यपूर्ण होगा उसका खात्मा: जयराम रमेश
'मंजूरी मंत्री' बन गए हैं पर्यावरण मंत्री: जयराम रमेश (फाइल फोटो)

जयराम रमेश ने कहा कि हम राजनीतिक विरोधी हैं, लेकिन मैं यह कहना चाहता हूं कि वामपंथ का खात्म भारत वहन नहीं कर सकता.

  • Share this:
त्रिपुरा चुनाव में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) की करारी शिकस्त के बाद कई पॉलिटिकल पंडित देश के राजनीतिक धरातल से जल्द ही उसके खात्मे का अंदेशा जता रहे हैं. वहीं इस बारे में जब कांग्रेस नेता जयराम रमेश से बात की गई तो उन्होंने कहा कि वामपंथी राजनीति का अंत देश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण होगा.

पूर्व केंद्रीय मंत्री रमेश ने मीडिया से बातचीत में कहा, 'भारत में मजबूत लेफ्ट की जरूरत है, उसका खात्मा देश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण होगा.' रमेश ने इसके साथ ही कहा कि हम राजनीतिक विरोधी हैं, लेकिन मैं यह कहना चाहता हूं कि वामपंथ का खात्मा भारत वहन नहीं कर सकता.


वहीं वाम दलों का अस्तित्व बचाए रखने के लिए सलाह देते हुए रमेश कहते हैं, 'लोगों की उम्मीदें और समाज बदल रहा है और वाम को भी अपनी सोच और कार्यशैली उसी हिसाब से बदलनी चाहिए.'




बता दें कि त्रिपुरा में पिछले 25 साल से सत्ता में रही लेफ्ट सरकार को बीजेपी ने हरा दिया है. राज्य में शिकस्त खाने के बाद सीपीएम के अंदर भी पार्टी की अपनायी गई पॉलिटिकल लाइन को लेकर मंथन तेज हो गया है.

वहीं महासचिव सीताराम येचुरी को समर्थन करने वाला खेमा देश में बदलती परिस्थिति के मुताबिक खुद को नहीं ढालने के लिए पार्टी के पूर्व प्रमुख प्रकाश करात पर दोष मढ़ रहा है. येचुरी खेमा बीजेपी का विजय रथ रोकने के लिए लोकसभा चुनावों में कांग्रेस से हाथ मिलाने की पैरवी कर रहा है, जबकि करात खेमा इसके खिलाफ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading