• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • केरल के विधायकों पर चलेगा तोड़फोड़ का मुकदमा, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सदन के अंदर आपराधिक कृत्य की छूट नहीं

केरल के विधायकों पर चलेगा तोड़फोड़ का मुकदमा, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सदन के अंदर आपराधिक कृत्य की छूट नहीं

सुप्रीम कोर्ट में भी न्यायाधीशों के पद खाली हैं. (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट में भी न्यायाधीशों के पद खाली हैं. (फाइल फोटो)

केरल विधानसभा (Kerala Assembly) में साल 2015 में हंगामा करने वाले MLAs के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई वापस लेने के अनुरोध के मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सुनवाई की.

  • Share this:

नई दिल्ली. केरल विधानसभा (Kerala Assembly ) में साल 2015 में हंगामा करने वाले विधायकों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई वापस लेने के अनुरोध के मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सुनवाई की. सुप्रीम कोर्ट ने केरल के विधायकों की अनुशासनात्मक कार्रवाई को वापस लेने की मांग वाली याचिका खारिज कर दी.

बुधवार को हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि चुने हुए लोग कानून से ऊपर नहीं हो सकते और उन्हें उनके अपराध के लिए छूट नहीं मिल सकती. फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि विधायकों को विशेषाधिकार इसलिए दिया गया है कि आप लोगों के लिए काम करें. असेंबली में तोडफ़ोड़ करने का अधिकार नहीं दिया गया है. आपके विशेषाधिकार विधायकों को क्रिमिनल लॉ से संरक्षण नहीं देते हैं.

सभी आरोपी विधायकों पर मुकदमा चलेगा
सुनवाई के दौरान कोर्ट ने केरल सरकार से पूछा था कि उपद्रवी विधायकों के खिलाफ दर्ज शिकायत वापस लेने और कार्रवाई निरस्त करना कौन से जनहित में आता है? कोर्ट ने पूछा था कि अदालत के फैसले से ही ये नजीर बनेगी कि सदन में उपद्रव करने के नतीजे क्या हो सकते हैं. विशेषाधिकार की लक्ष्मण रेखा कहां तक है? राजनीतिक मुद्दे पर विरोध कहां तक हो सकता है?

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने अजीत और अन्य के खिलाफ केरल सरकार की याचिका पर फैसला सुनाया है. कोर्ट ने कहा कि सदन के अंदर तोड़ फोड़ करना जनता का काम नहीं हो सकता. अदालत के इस फैसले के बाद अब केरल के सभी आरोपी विधायकों पर मुकदमा चलेगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज