Home /News /nation /

जल्लीकट्टू पर बैन के खिलाफ तमिलनाडु में सड़कों पर उतरा जनसैलाब

जल्लीकट्टू पर बैन के खिलाफ तमिलनाडु में सड़कों पर उतरा जनसैलाब

जलीकट्टू को बैन किए जाने के विरोध में तमिलनाडु में विरोध प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है. लाखों की संख्या में लोग पूरे राज्य में प्रदर्शन कर बैन हटाने की मांग कर रहे हैं.

जलीकट्टू को बैन किए जाने के विरोध में तमिलनाडु में विरोध प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है. लाखों की संख्या में लोग पूरे राज्य में प्रदर्शन कर बैन हटाने की मांग कर रहे हैं.

जलीकट्टू को बैन किए जाने के विरोध में तमिलनाडु में विरोध प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है. लाखों की संख्या में लोग पूरे राज्य में प्रदर्शन कर बैन हटाने की मांग कर रहे हैं.

    जल्लीकट्टू को बैन किए जाने के विरोध में तमिलनाडु में विरोध प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है. लाखों की संख्या में लोग पूरे राज्य में प्रदर्शन कर बैन हटाने की मांग कर रहे हैं. चेन्नई के मरीना बीच पर हजारों लोग जमा हो गए हैं.  रजनीकांत, विजय, सूर्या जैसे फिल्म स्टारों ने भी लोगों की मांग का समर्थन किया है. प्रदर्शनकारियों की तीन मुख्य मांगें हैं. 1- जलीकट्टू पर से बैन हटाया जाए. 2-सीएम की तरफ से बयान दिया जाए. 3-पेटा पर प्रतिबंध लगाया जाए.

    तमिलनाडु में जगह-जगह प्रदर्शन हो रहा है. चेन्नई, मदुरे और कोयंबटूर में हो रहा प्रदर्शन आज भी जारी रहा. वहीं नमक्कल में वकीलों ने अदालत का बहिष्कार करने का ऐलान कर दिया. प्रदर्शनकारियों में खासतौर पर युवाओं की संख्या ज्यादा है जो पोंगल पर जलीकट्टू आयोजित नहीं हो पाने से गुस्से में हैं. चेन्नई में मरीना बीच पर हजारों प्रदर्शनकारी जुटे हुए हैं और इन्होंने केंद्र-राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की. किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए भारी संख्या में पुलिस तैनात है. लोगों का गुस्सा पेटा के खिलाफ भी है जिसकी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर बैन लगाने का फरमान सुनाया था.

    वहीं मद्रास हाई कोर्ट ने आज कहा कि वह जल्लीकट्टू पर प्रतिबंध के विरोध में शहर में चल रहे प्रदर्शनों के मामले में कोई हस्तक्षेप नहीं करेगा क्योंकि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है. अधिवक्ता के बालू ने मरीना मार्ग में जल्लीकट्टू समर्थकों के चल रहे विरोध प्रदर्शनों का खुली अदालत में जिक्र किया. उन्होंने अदालत को बताया कि प्रदर्शनकारियों को पेयजल उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है. साथ ही मंगलवार शाम से चल रहे प्रदर्शन वाले स्थान में बिजली आपूर्ति बंद है.

    हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एस के कॉल और न्यायामूर्ति एम सुंदर की पीठ ने इस मुद्दे पर इस चरण में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया. पीठ ने कहा कि यह मामला पहले ही सुप्रीम कोर्ट में लंबित है और जब ऐसा होता है तो हाई कोर्ट और तमिलनाडु सरकार कुछ नहीं कर सकती और इसके अलावा मरीना रोड प्रदर्शन करने की जगह नहीं है. अदालत इस चरण में हस्तक्षेप नहीं करना चाहती है.



    जल्लीकट्टू समर्थकों के प्रदर्शनों ने उस वक्त और तेजी पकड़ ली जब युवाओं के एक गुट ने मरीना मार्ग में रातभर प्रदर्शन जारी रखा इसबीच राज्य सरकार ने मामले के हल के लिए प्रदर्शनकारियों से आज बातचीत की. सरकार ने युवाओं से कहा कि वह जल्लीकट्टू पर अध्यादेश लाने के लिए राष्ट्रपति से अपील करेगी. सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में ही जल्लीकट्टू पर प्रतिबंध लगा दिया था और पिछले साल दिसंबर में राज्य सरकार की पुनर्विचार याचिका भी रद्द कर दी थी. शीर्ष न्यायालय ने इस संबंध में दाखिल एक अन्य याचिका को 12 जनवरी को खारिज का दिया था.



    मंत्रियों ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत की

    जल्लीकट्टू के समर्थकों की ओर से किए जा रहे प्रदर्शनों के जोर पकड़ने और रात भर युवाओं के एक समूह द्वारा किए गए विरोध प्रदर्शन के बीच राज्य सरकार ने आज प्रदर्शनकारियों से बातचीत की है और राज्य में सांडों को काबू में करने से जुड़े इस खेल को आयोजित करवाने की अपनी प्रतिबद्धता का आश्वासन दिया है.सरकार ने युवाओं से कहा है कि वह इस मामले पर राष्ट्रपति से संपर्क करके उनसे अध्यादेश लाने की मांग करेंगे.

    राज्य मत्स्य पालन मंत्री डी जयकुमार ने मंत्रिमंडल में अपने सहयोगी के पांड्याराजन के साथ मिलकर प्रदर्शन कर रहे युवकों के प्रतिनिधियों से आज तड़के बातचीत की. उनका कहना था कि लोकसभा में अन्नाद्रमुक के 50 लोकसभा और राज्यसभा सांसद जल्लीकट्टू के संचालन के लिए केंद्र पर आवश्यक दबाव डालेंगे.

    जयकुमार ने कहा कि सिर्फ यही नहीं, सरकार राष्ट्रपति से मिलने के लिए भी कदम उठाएगी और उनसे अध्यादेश की मांग करेगी. प्रदर्शनकारियों की मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम से आश्वासन की मांग पर स्कूल शिक्षा मंत्री पांड्याराजन ने कहा कि सरकार कोई मौखिक आश्वासन नहीं दे सकती है. मंत्री ने इस बात का इशारा किया कि मुख्यमंत्री आज इस मुद्दे पर बयान जारी कर सकते हैं. मंत्रियों ने प्रदर्शनकारियों से आंदोलन खत्म करने की अपील की है। वहीं प्रदर्शनकारियों का दावा है कि आंदोलन में और भी लोग शामिल होंगे।

    (भाषा इनपुट) 

     

    Tags: Chennai, Tamilnadu

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर