होम /न्यूज /राष्ट्र /महाराष्‍ट्र: बहुमत परीक्षण से पहले ही अजित पवार ने डाले हथियार, डिप्‍टी सीएम पद से दिया इस्‍तीफा

महाराष्‍ट्र: बहुमत परीक्षण से पहले ही अजित पवार ने डाले हथियार, डिप्‍टी सीएम पद से दिया इस्‍तीफा

महाराष्‍ट्र के उपमुख्‍यमंत्री अजित पवार ने अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया है.

महाराष्‍ट्र के उपमुख्‍यमंत्री अजित पवार ने अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया है.

महाराष्‍ट्र विधानसभा (Maharashtra Legislative Assembly) में बुधवार को फ्लोर टेस्‍ट (Floor Test) कराने के सुप्रीम कोर्ट ...अधिक पढ़ें

    मुंबई. महाराष्‍ट्र में बहुमत परीक्षण से पहले ही डिप्‍टी सीएम अजित पवार ने हथियार डाल दिए. उन्‍होंने डिप्‍टी सीएम पद से इस्तीफा दे दिया है. सीएम देवेंद्र फडणवीस ने उनके इस्‍तीफे की पुष्टि कर दी है. दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने आज सुबह दिए अपने फैसले में कहा था कि कल यानी बुधवार शाम 5 बजे से फ्लोर टेस्‍ट (Floor Test) कराया जाए. इसके बाद महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में सियासी हलचल तेज हो गई. उपमुख्‍यमंत्री अजित पवार (Ajit Pawar) एनसीपी के वरिष्‍ठ नेता छगन भुजब और प्रफुल्‍ल पटेल से मुलाकात के बाद सीएम देवेंद्र फडणवीस (CM Devendra Fadnavis) से मिले और अपना इस्‍तीफा सौंप दिया. इसके बाद वह अपने भाई श्रीनिवास पवार से मुलाकात करने उनके घर भी गए.

    गुप्‍तदान के बजाय लाइव कैमरे की निगरानी में फ्लोर टेस्‍ट का दिया था आदेश 
    सुप्रीम कोर्ट के फ्लोर टेस्‍ट कराने के फैसले के बाद एनसीपी (NCP), शिवसेना (Shiv Sena) और कांग्रेस (Congress) के नेताओं ने बैठक शुरू कर दी थीं. वहीं, बीजेपी (BJP) ने भी अपने विधायकों को आज रात गरवारे क्लब पहुंचने का निर्देश दे दिया था. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को अपने फैसले में कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा (Maharashtra Legislative Assembly) का फ्लोर टेस्ट बुधवार शाम 5 बजे कराया जाए. साथ ही कहा कि फ्लोर टेस्ट गुप्त मतदान के बजाय लाइव कैमरे की निगरानी में होना चाहिए.

    सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद महाराष्‍ट्र में सभी दल हो गए थे सक्रिय
    सुप्रीम कोर्ट का फैसला आते ही एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) अपनी पार्टी के विधायकों से मिलने सोफिटेल होटल पहुंचे. होटल में नवाब मलिक और धनंजय मुंडे मौजूद थे. कहा जा रहा था कि शरद पवार बुधवार को होने वाले फ्लोर टेस्ट की रणनीति बनाने के लिए होटल पहुंचे थे. डिप्टी सीएम और एनसीपी के बागी नेता अजित पवार भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सक्रिय दिखे. उन्‍होंने एनसीपी के कुछ नेताओं से मुलाकात के बाद सीएम देवेंद्र फडणवीस को अपना इस्‍तीफा सौंप दिया.

    शुक्रवार रात से मंगलवार तक महाराष्‍ट्र की सियासत  ने यूं ली करवट
    महाराष्‍ट्र शनिवार यानी 23 नवंबर, 2019 की सुबह बड़े सियासी उलटफेर का गवाह बना. दरअसल, महाराष्‍ट्र से शनिवार अलसुबह राष्‍ट्रपति शासन हटाया गया. इसके बाद राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी ने बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस को मुख्‍यमंत्री और एनसीपी के अजित पवार को उपमुख्‍यमंत्री पद की शपथ दिला दी. जब लोग जागे तो ये खबर देखकर चौंक गए, क्‍योंकि इससे एक रात पहले यानी शुक्रवार रात को ही शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की संयुक्‍त बैठक के बाद उद्धव ठाकरे को सीएम बनाए जाने की घोषणा की गई थी. इस बैठक में अजित पवार भी मौजूद थे.

    ये मामला शनिवार शाम होते-होते सुप्रीम कोर्ट की चौखट पर पहुंच गया. अवकाश के बावजूद शीर्ष अदालत ने रविवार सुबह शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई की. इसके बाद सोमवार को सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया. इस बीच एनसीपी ने अजित पवार को हटाकर जयंत पा‍टील को पार्टी विधायक दल का नेता बना दिया. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार सुबह दिए फैसले में कहा कि बुधवार शाम 5 बजे महाराष्‍ट्र विधानसभा में बहुमत परीक्षण कराया जाए. इसके बाद अजित पवार ने डिप्‍टी सीएम पद से इस्‍तीफा दे दिया. दोपहर बाद की प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि वह आज शाम राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी को अपना इस्‍तीफा सौंप देंगे.

    द द

    ये भी पढ़ें:

    महाराष्ट्र में चुनाव परिणाम से लेकर SC के फैसले तक कब क्या हुआ, यहां पढ़ें

    Analysis: लोकतंत्र की मर्यादा को स्थापित करने वाला है सुप्रीम कोर्ट का फैसला

    Tags: Ajit Pawar, BJP, Congress, Devendra Fadnavis, Maharashtra, Maharashtra Assembly Election 2019, NCP, Sharad pawar, Shiv sena, Supreme Court

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें