गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी मामले में सामने आया डेरा सच्चा सौदा का हाथ: सूत्र

वर्ष 2015 में गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी को लेकर यहां काफी तनाव फैल गया था. इस दौरान बेहबल कलां और कोटकपूरा में झड़प के दौरान गोलीबारी भी हुई, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई थी.

News18Hindi
Updated: July 1, 2018, 12:43 PM IST
गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी मामले में सामने आया डेरा सच्चा सौदा का हाथ: सूत्र
(फाइल फोटो- राम रहीम)
News18Hindi
Updated: July 1, 2018, 12:43 PM IST
पंजाब के बहुचर्चित बरगाड़ी बेअदबी और बेहबल कलां गोली कांड में जस्टिस (रिटायर्ड) रंजीत सिंह आयोग ने शनिवार को अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को सौंपी दी. बताया जा रहा है कि इस मामले में डेरा समर्थकों का हाथ सामने आया है.

सूत्रों के मुताबिक, आयोग की रिपोर्ट इस मामले में गठित एसआईटी की रिपोर्ट में सामने आए तथ्यों पर आधारित है. कहा जा रहा है कि बेअदबी के पीछे पंजाब में समुदायिक हिंसा फ़ैलाने का मकसद था.



सिखों के धार्मिक ग्रंथ श्री गुरुग्रन्थ साहिब की बेअदबी का ये मामला 2015 में बुर्ज सिंह वाला, बरगाड़ी, गुरुसर और मालिके गांव में हुआ था. गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी की वजह से इलाके में तब काफी तनाव फैल गया था. इस दौरान बेहबल कलां और कोटकपूरा में झड़प के दौरान गोलीबारी भी हुई, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई थी.

ये भी पढ़ेंः पंचकुला दंगे के पीछे था खुद राम रहीम का हाथ, अब चलेगा देशद्रोह का मुकदमा

सूत्रों के मुताबिक, जांच में पता चला है कि डेरा सच्चा सौदा की नेशनल कमिटी के तीन सदस्य इस मामले में मुख्य सूत्रधार थे, जिनका नाम प्रदीप, हर्ष और संदीप है. बताया जा रहा है कि मामले में मास्टरमाइंड महिंदरपाल सिंह था, जिसने मोगा की अदालत में अपना जुर्म कुबूल भी किया है.

महिंदरपाल सिंह ने सुखजिंदर सिंह सनी और नीला को गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी का काम सौंपा था. इन दोनों के अलावा अन्य आरोपी शक्ति सिंह, भोला, बलजीत, बिट्टू कपड़ेवाला, राजू दोधी और नरेंदर शर्मा शामिल हैं. बताया जा रहा है कि महिंदरपाल सिंह ने शक्ति सिंह, बलजीत, निशांत, और भोला को सिख धर्म की शान के खिलाफ नारे वाले पोस्टर लगाने को कहा था.

ये भी पढ़ेंः तलवार दंपति को बरी कराने वाले वकील लड़ेंगे राम रहीम का केससूत्रों के अनुसार, चश्मदीदों के बयान से पता चला कि इन आरोपियों ने गुरुग्रंथ साहिब के 'अंग' बुर्ज जवाहर सिंह वाला से जून के महीने में चोरी किए और फिर इसके साथ बेअदबी की. यह भी पता चला है कि आरोपियों के निशाने पर दो प्रचारक बलजीत सिंह दादूवाल और हरजिंदर सिंह माली भी थे, क्योंकि इन्होंने उनके खिलाफ बोला था.
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार