लाइव टीवी

बंगाल में BJP को हराने के लिए 'कट्टर दुश्मन' CPI(M) से हाथ मिलाने को तैयार हैं ममता

News18Hindi
Updated: June 26, 2019, 10:18 PM IST
बंगाल में BJP को हराने के लिए 'कट्टर दुश्मन' CPI(M) से हाथ मिलाने को तैयार हैं ममता
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कांग्रेस और लेफ्ट को हाथ मिलाने का ऑफर दिया है. (फाइल फोटो)

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने इससे पहले कई मौकों पर राष्ट्रीय स्तर पर लेफ्ट और कांग्रेस के साथ गठबंधन की बात कही थी, लेकिन पहली बार उसने खुले तौर पर अपने प्रतिद्वंदियों के साथ हाथ मिलाने की बात कही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 26, 2019, 10:18 PM IST
  • Share this:
तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को कहा, 'पश्चिम बंगाल में बीजेपी के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए लेफ्ट फ्रंट, कांग्रेस और टीएमसी को साथ आना चाहिए.' एक सभा में बोलते हुए ममता बनर्जी ने कहा, "मुझे आशंका है कि बीजेपी भारत के संविधान को बदल देगी. मुझे लगता है कि हम सभी को, जिनमें लेफ्ट और कांग्रेस भी शामिल हैं, बीजेपी का मुकाबला करने के लिए हाथ मिलाना चाहिए."

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने इससे पहले कई मौकों पर राष्ट्रीय स्तर पर लेफ्ट और कांग्रेस के साथ गठबंधन की बात कही थी, लेकिन पहली बार उसने खुले तौर पर अपने प्रतिद्वंदियों के साथ हाथ मिलाने की बात कही, ताकि घर पर बड़े दुश्मन को हरा सकें.

राफेल डील पर ममता की सफाई

ये बात महसूस करते हुए कि कांग्रेस नेता ये मुद्दा उठा सकते हैं कि राफेल डील पर टीएमसी चुप क्यों थी, ममता बनर्जी ने कहा, "मैंने राफेल पर चुप रहने का फैसला किया (हालांकि लोकसभा चुनाव से पहले कुछ मौकों पर उन्होंने इस मुद्दे को उठाया था) क्योंकि मेरे पास डॉक्यूमेंट नहीं थे. इसका मतलब यह नहीं है कि मैंने कांग्रेस का विरोध किया."



ये भी पढ़ें: ममता को झटका, पहली बार किसी जिला परिषद पर BJP का कब्जा

बंगाल में सबसे ज्यादा ईमानदार नेताअपनी पार्टी पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोपों पर ममता ने कहा, "मैं पार्थ चटर्जी (राज्य के शिक्षा मंत्री) से सहमत हूं कि टीएमसी के 0.9% नेता भ्रष्ट हो सकते हैं, लेकिन यह भी एक फैक्ट है कि बंगाल में देश के अन्य राज्यों की तुलना में ईमानदार नेताओं की संख्या अधिक है.



कांग्रेस और सीपीआई (एम) ने ममता पर साधा निशाना

ममता ने भले ही खुलेआम कांग्रेस और लेफ्ट को हाथ मिलाने का निमंत्रण दिया हो लेकिन उनके बयान को लेकर कांग्रेस की तरफ से बहुत सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं आई है. बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष सोमेन मित्रा ने कहा कि वे ममता के बयानों और सुझावों पर चलने के लिए नहीं हैं. सीपीआई (एम) नेता हन्नम मोलाह ने ममता बनर्जी को स्वार्थी नेता बताते हुए कहा कि कुछ भी करने से पहले उन्हें पहले अपनी पार्टी को मजबूत बना लेना चाहिए.

ये भी पढ़ें: बंगाल में टीएमसी के कमीशनखोर नेताओं के पीछे पड़ी बीजेपी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 26, 2019, 9:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर