क्यूबा भागने की फिराक में था मेहुल चोकसी, पकड़े जाने के वक्त सागर में दस्तावेज बहा रहा था

मेहुल चोकसी (फाइल फोटो PTI)

Mehul Choksi apprehended: सीएनएन न्यूज-19 से बातचीत में डोमिनिका पुलिस ने इस बात की पुष्टि की है कि 'चोकसी उनकी हिरासत में है.' उन्होंने जानकारी दी, 'चोकसी को डोमिनिका के उत्तर में पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

  • Share this:
    (आदित्य राज कौल)

    नई दिल्ली. किसी फिल्मी सीन की तरह पीएनबी घोटाले (PNB Scam) के आरोपी और भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) को पकड़ लिया गया है. इंटरपोल (INTERPOL) की तरफ से यलो नोटिस जारी किए जाने के बाद चोकसी को डोमिनिका से पकड़ा जा चुका है. खास बात है कि हिरासत में लिए जाने के वक्त कारोबारी बीच पर नदी में कुछ दस्तावेजों को नष्ट कर रहा था. अब उम्मीद की जा रही है कि हजारों करोड़ का घोटाला करने वाले कारोबारी को जल्द ही भारत लाया जा सकता है.

    सीएनएन न्यूज-19 से बातचीत में डोमिनिका पुलिस ने इस बात की पुष्टि की है कि 'चोकसी उनकी हिरासत में है.' उन्होंने जानकारी दी, 'चोकसी को डोमिनिका के उत्तर में पुलिस ने गिरफ्तार किया था. चूंकि उस इलाके में एयरपोर्ट नहीं है, तो हम यह मान रहे हैं कि उसने डोमिनिका में अवैध तरीके से घुसने के लिए बोट का सहारा लिया था.' चोकसी पंजाब नेशनल बैंक के 13 हजार 500 करोड़ रुपये के घोटाले मामले में वॉन्टेड है.



    पकड़े जाने के बाद गिरफ्तारी की प्रक्रिया को लेकर प्रवक्ता ने बताया, 'हम मानते हैं कि उसे उसके मूल देश में जल्द ही प्रत्यर्पित किया जाएगा.' स्थानीय पुलिस के मुताबिक, चोकसी को डोमिनिका की राजधानी रोज के कैनफील्ड बीच पर देखा गया था. उस दौरन वह नदी में कुछ कागजात बहा रहा था. उसकी इस संदिग्ध गतिविधियों को देखकर पुलिस ने पूछताछ की. जब चोकसी से उसके देश में आने का मकसद पूछा गया, तो उसने जाहिर तौर पर जवाब देने से इनकार कर दिया.

    कागजों की तलाश में गोताखोर तैनात
    खबर है कि नदी में कागजों की तलाश के लिए पेशेवर गोताखोरों को तैनात किया गया है. शुरुआती पूछताछ में पता चला है कि चोकसी डोमिनिका में बोट के जरिए पहुंचा था और यहां कुछ समय रुकने के बाद क्यूबा भागने की कोशिश में था. रिपोर्ट्स के मुताबिक, 62 वर्षीय भगोड़े कारोबारी को स्थानीय लोगों ने आखिरी बार रविवार शाम 5 बजे एंटीगा के जॉली हार्बर इलाके में देखा था. बताया जा रहा है कि वह गायब होने से पहले यहां रात का भोजन करने आया था.

    ब्राउन ने सीएनएन-न्यूज18 से बातचीत में कहा था, 'हमने डोमिनिकन सरकार से देश में अवैध रूप से प्रवेश करने के लिए हिरासत में लेने, पर्सन नॉन-ग्रेटा बनाने और सीधे भारत भेजने के लिए कहा है.' उन्होंने इस बात की जानकारी भारत में भी अधिकारियों को दे दी है और तत्काल निर्वासन के लिए एक जहाज डोमिनिका भेजने की बात कही है. भारत सरकार के सूत्रों का कहना है कि वो मामले पर करीब से नजर बनाए हुए हैं.

    (इस रिपोर्ट को अंग्रेजी में पूरा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)