कश्मीर पर सरकार को मिला दत्तात्रेय होसबोले का साथ, बोले- देश और राज्य के हित में नेताओं की नजरबंदी

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) के नेता दत्तात्रेय होसबोले (Dattatreya Hosabale) ने कहा कि जम्मू-कश्मीर ( Jammu & Kashmir) में नेताओं की नजबंदी को देश के हित और कश्मीर के स्थानीय लोगों के भलाई के लिए है.

News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 6:46 PM IST
कश्मीर पर सरकार को मिला दत्तात्रेय होसबोले का साथ, बोले- देश और राज्य के हित में नेताओं की नजरबंदी
आरएसएस के संयुक्त सचिव दत्तात्रेय होसबोले ने सोमवार को दिए अपने बयान में कहा है कि कश्मीर में नेताओं की नजरबंदी देश के हित में है. साथ ही कश्मीर के स्थानीय लोगों के भलाई के लिए है.
News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 6:46 PM IST
नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) ने जम्मू-कश्मीर ( Jammu & Kashmir) में नेताओं की नजबंदी को लेकर बड़ा बयान दिया है. आरएसएस के संयुक्त सचिव दत्तात्रेय होसबोले (Dattatreya Hosabale) ने सोमवार को दिए अपने बयान में कहा है कि कश्मीर में नेताओं की नजरबंदी देश के हित में है. साथ ही कश्मीर के स्थानीय लोगों के भलाई के लिए है.

पुष्कर में बीजेपी-आरएसएस की समंवय मीटिंग में बोलते हुए होसबोले ने कहा, ' केंद्र सरकार ने अपने कदम बढ़ने से पहले जमीन पर अपना पूरा होमवर्क कर लिया था. सच्चाई यह है कि जम्मू-कश्मीर के नेता निर्वाचित हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वह गलत नहीं हो सकते हैं. वो बाहर आकर वो लोगों को भड़का सकते हैं.'

पुष्कर में बीजेपी-आरएसएस की समंवय मीटिंग में बोलते हुए होसबोले ने कहा, ' केंद्र सरकार ने अपने कदम बढ़ने से पहले जमीन पर अपना पूरा होमवर्क कर लिया था.


देश हित में नेताओं की नजरबंदी

उन्होंने कहा,  केंद्र सरकार ने नेताओं की नजरबंदी का कदम देशहित में उठाया है. हालांकि वहां कई निर्वाचित नेताओं का स्वयं का स्वार्थ नजरबंदी में है और उनकी नजरबंदी देश के हित में है.'  गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री मेहबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला सहित राज्य के कई दूसरे कैबिनेट मंत्रियों, पूर्व कानूनविद व पार्टी नेताओं को नजरबंद करने के लिए केंद्र सरकार की आलोचना हो रही है.

एनआरसी तय समय में पूरा
मीटिंग में कई बीजेपी नेताओं ने एनआरसी के मुद्दे पर भी बातचीत की. होसबोले ने एनआरसी को एक कठिन काम कहा. उन्होंने कहा, ' एनआरसी को संभवत: निर्धारित समय में पूरा कर लिया गया है. यह एक कठिन काम है क्योंकि इसके लिए पहले से कोई कानून नहीं है. बांग्लादेश से आने वाले अवैध घुसपैठिए जिन्होंने यहां रहते हुए राशनकोर्ड, आधारकोर्ड और अन्य दस्तावेज हासिल कर लिए हैं.
Loading...

होसबोले ने सीमावर्ती क्षेत्र में सांस्कृतिक बदलाव पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि इन क्षेत्रों में लोग तेजी से इस्लाम और ईसाइत को अपना रहे हैं.


होसबोले ने आगे कहा कि एनआरसी पर काम करने और इस पर आगे बढ़ने के लिए हम केंद्र सरकार का स्वागत करते हैं. उन्होंने सलाह दी कि नेताओं को राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर भी अपना ध्यान देना चाहिए. इसके साथ ही मातृभाषा के विकास के और लोगों के चरित्र के निर्माण पर भी अपना ध्यान देना चाहिए. होसबोले ने सीमावर्ती क्षेत्र में सांस्कृतिक बदलाव पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि इन क्षेत्रों में लोग तेजी से इस्लाम और ईसाइत को अपना रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

 Chandryaan-2: नागपुर पुलिस का ट्वीट- जवाब दो विक्रम, हम चालान नहीं काटेंगे

असम के बाद अब मणिपुर में भी लागू होगा NRC, कैबिनेट ने पास किया प्रस्ताव

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 6:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...