बीजेपी छोड़ने के बाद फूटा खड़से का गुस्सा, देवेंद्र फडणवीस पर लगाया फंसाने का आरोप

एकनाथ खडसे काफी लंबे समय से बीजेपी से नाराज चल रहे थे. (फाइल)
एकनाथ खडसे काफी लंबे समय से बीजेपी से नाराज चल रहे थे. (फाइल)

महाराष्ट्र में बीजेपी सरकार (BJP Government) में मंत्री रह चुके वरिष्ठ नेता एकनाथ खड़से (BJP leader Eknath Khadse) ने पार्टी से नाता तोड़ लिया है. खड़से ने इस बात की पुष्टि की है कि वह 23 अक्टूबर को शरद पवार (Sharad Pawar) के नेतृत्व वाली एनसीपी जॉइन करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 10:49 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya janta Party) के वरिष्ठ नेता एकनाथ खड़से ने बुधवार को बीजेपी से अलग होने की घोषणा कर दी है. पार्टी से अलग होकर वह 23 अक्टूबर को एनसीपी (NCP) का दामन थामने जा रहे हैं. इस पूरे सियासी माहौल के बीच खड़से ने एक बात साफ कर दी है कि वह राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) से खुश नहीं थे.

मैंने बीजेपी में बहुत कुछ सहा है: खड़से 
समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में खड़से ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस ने एक महिला की गलत शिकायत पर पुलिस को मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए थे. उन्होंने कहा कि बाद में केस वापस ले लिया जाएगा. खड़से ने कहा कि मेरे खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में जांच शुरू की गई, जिसमें मैं पाक साफ साबित हुआ. मैंने बीजेपी में बहुत कुछ सहा है.

खड़से ने न्यूज 18 से कहा, 'मुझे बीजेपी से बाहर निकाला गया है. मैं देवेंद्र फडणवीस के अलावा किसी से भी दुखी नहीं था. मुझे कोई आश्वासन नहीं दिया गया.' उन्होंने कहा, 'मैं पार्टी से अकेला जा रहा हूं, मेरे साथ कोई सांसद या विधायक नहीं हैं.'




टिकट नहीं मिलने के बाद से शुरू हुआ तनाव
खड़से के पार्टी के साथ रिश्ते तब और खराब हो गए जब उन्हें 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं दिया गया. इसके बाद उनकी बेटी रोहिणी खड़से (Rohini Khadse) की चुनावी हार के बाद यह नाराजगी और बढ़ गई. इसके अलावा 2016 में बीजेपी सरकार में मंत्री पद पर रहे खड़से को भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद पद छोड़ना पड़ा. ऐसा कहा जाता रहा है कि उन्हें फडणवीस के पार्टी चलाने का तरीका पसंद नहीं आ रहा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज