अपना शहर चुनें

States

कोरोना पर पीएम मोदी की संवेदनशील पहल एक विश्व नेता की पहचान : केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

धमेंद्र प्रधान ने की पीएम की तारीफ.
धमेंद्र प्रधान ने की पीएम की तारीफ.

धर्मेंद्र प्रधान ने ट्वीट करके कहा कि संकट के समय सार्क देशों को एकजुट करने का प्रयास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संवेदनशीलता और मानवीयता को प्रमाणित करती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2020, 8:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra pradhan) ने सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) की कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ जंग में की गई जनभागीदारी की अपील को जन आंदोलन में तब्दील करने की वकालत की है. पीएम मोदी ने सार्क देशों से भी एकजुट होकर कोरोना जैसी महामारी से लड़ने का आह्वान किया था. धर्मेंद्र प्रधान ने ट्वीट करके कहा कि संकट के समय सार्क देशों को एकजुट करने का प्रयास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संवेदनशीलता और मानवीयता को प्रमाणित करती है.

धर्मेन्द्र प्रधान ने ट्विटर के माध्यम से संदेश दिया कि जब दुनिया भर के देश अपनी सीमाओं को बंद कर रहे हैं, तब पीएम का यह आह्वान मानवता के लिए किए जा रहे प्रयासों के रूप में याद किया जाएगा. प्रधान ने ट्वीट कर ये भी कहा कि आज पूरे देश को भरोसा है कि पीएम मोदी के नेतृत्व में COVID-19 से निपटने के लिए स्वास्थ्य सेवाओं, शोधकर्ताओं के साथ मिलकर किए जा रहे प्रयास इस महामारी को नियंत्रित करने में सफल होंगे. इससे भारत के साथ ही सार्क देश भी इस मानवीय संकट से उबर सकेंगे.

भारत ने दिखाई मानवीय पहल
प्रधान ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए पीएम मोदी की पहल पर भारत ने 10 मिलियन डॉलर का एक आपातकालीन कोष बनाया है, इससे इस बीमारी को फैलने से रोकने में व्यापक तंत्र विकसित किया जा रहा है. प्रधान का मानना है कि जिस तरह देश में स्वास्थ्य सेवाएं एवं प्रोफेशनल कार्य कर रहे हैं, उससे भविष्य में भी कोरोना जैसी किसी भी महामारी और प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए भारत की तैयारियां पुख्ता हो रही हैं.
पीएम की पहल में वैश्विक नेतृत्व की झलक


धर्मेन्द्र प्रधान ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि पीएम ने न सिर्फ सार्क देशों बल्कि G-20 देशों के नेताओं से इस सम्बंध में चर्चा कर भारत की वसुधैव कुटुम्बकम अर्थात सभी के लोक कल्याण के लिए आगे रहने के विचार को सिद्ध किया है. इससे उनकी विश्व नेता की छवि और मजबूत होती है. कोरोना से लड़ाई लंबी है लेकिन देश भर में लोगों और सेवा में लगे कर्मियों का रुख देख कर तो यही लगता है कि लड़ाई मुश्किल नही साबित होगी.

यह भी पढ़ें: 1 रुपये में रेलवे करेगा बुखार की जांच, इन स्टेशनों पर शुरू की ये सर्विस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज