Coronavirus: डायबिटीज और हाइपरटेंशन के मरीज के लिए कोरोना बेहद घातक, दिल्ली में ऐसे हर 5 में से एक की गई जान

दिल्‍ली में कोरोना वायरस से हुई मौतों से संबंधी जानकारी मिली.
दिल्‍ली में कोरोना वायरस से हुई मौतों से संबंधी जानकारी मिली.

Coronavirus Delhi: कोरोना वायरस संक्रमण के कारण 1 मार्च से 30 सितंबर के बीच दिल्‍ली में 5,509 लोगों की मौत हुई. इनमें से 1,086 लोग डायबिटीज और हाई ब्‍लड प्रेशर, दोनों से ही पीड़ित थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 10:58 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) की रफ्तार धीरे-धीरे कम हो रही है. इस बीच दिल्‍ली में कोरोना वायरस संक्रमण (Covid 19 in India) को लेकर महत्‍वपूर्ण तथ्‍य सामने आए हैं. सूचना के अधिकार के तहत दी गई जानकारी के अनुसार दिल्‍ली में मार्च से अक्‍टूबर के बीच कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus in Delhi) से मरने वाले हर पांच में से एक व्‍यक्ति को डायबिटीज और हाइपरटेंशन या हाई ब्‍लड प्रेशर की शिकायत थी. दिल्‍ली में हो रही मौतों में यह दो बीमारियां आम रहीं. इनके बाद कोरोना से मरने वाले लोगों में निमोनिया तीसरे स्‍थान पर है.

इंडियन एक्‍सप्रेस में प्रकाशित खबर के मुताबिक लगभग 45% लोगों में वहले से कोई बीमारी नहीं पाई गई थी. डाटा से पता चलता है कि 1 मार्च से 30 सितंबर के बीच दिल्‍ली में 5,509 लोगों की मौत कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुई. इनमें से 5,283 मामलों के संबंध में पूर्ण आयु और लिंग संबंधी डाटा उपलब्ध है. इनमें से 1,086 लोग डायबिटीज और हाई ब्‍लड प्रेशर, दोनों से ही पीड़ित थे. वहीं 989 मरीज निमोनिया से पीड़ित थे. 695 लोगों को सिर्फ डायबिटीज थी और 678 लोगों को सिर्फ हाइपरटेंशन या हाई ब्‍लडप्रेशर की समस्‍या थी.

दिल्ली में अप्रैल में गठित डेथ ऑडिट कमेटी ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण से हो रही मौतों को वर्गीकृत किया है. हालांकि इसमें कोरोना वायरस पॉजिटिव और उससे हुई सभी मौतों को नहीं वर्गीकृत किया गया है. कमेटी ने बताया कि कैसे मौतों को वर्गीकृत किया जाता है. कई देशों में महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक मृत्यु दर दर्ज की गई है. यह ट्रेंड दिल्ली में भी दिखाई दे रहा है. 5,283 मौतों में से दो तिहाई या 66% पुरुष हैं. सबसे अधिक मरने वाले लोगों की उम्र 51 से 70 साल के बीच रही. इनकी कुल संख्‍या 2697 थी.

दिल्‍ली में जिन भी लोगों की मौत कोरोना वायरस संक्रमण से हुई, उनमें से करीब आधे लोग दूसरी बीमारियों से भी जूझ रहे थे. 21 से 30 वर्ष की आयु के मरने वाले लोगों में दूसरी बीमारियां सबसे कम थीं. इस आयु वर्ग के मरने वाले 179 लोगों में से केवल 36 फीसदी लोगों में ही कोई दूसरी बीमारियां मौजूद थीं. 71 और उससे अधिक आयु वर्ग के लोगों में दूसरी बीमारियां सबसे ज्‍यादा थीं. इनका फीसद 60 रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज