नीतीश को साथ लाने में जुटी कांग्रेस! दिग्विजय बोले, BJP-संघ का साथ छोड़ तेजस्वी को आशीर्वाद दें

बिहार चुनाव के नतीजों पर दिग्विजय सिंह ने प्रतिक्रिया दी है.  (फाइल फोटो)
बिहार चुनाव के नतीजों पर दिग्विजय सिंह ने प्रतिक्रिया दी है. (फाइल फोटो)

दिग्विजय सिंह ने नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से यह भी कहा कि वह समाजवादी धर्मनिरपेक्ष विचारधारा में विश्वास रखने वाले लोगों को एकजुट करने में मदद करें क्योंकि ऐसा करना ही महात्मा गांधी और जयप्रकाश नारायण को सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

  • भाषा
  • Last Updated: November 11, 2020, 12:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बिहार में सत्ता विरोधी लहर और विपक्ष की कड़ी चुनौती को पार करते हुए नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने 243 सीटों में से 125 सीटों पर जीत प्राप्त कर बहुमत का जादुई आंकड़ा हासिल कर लिया है. इसके अलावा बीजेपी शुरू से ही कह रही थी कि जीतने पर राज्य के मुखिया नीतीश कुमार ही होंगे. ऐसे में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में राजग को बहुमत मिलने पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने बुधवार को कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का साथ छोड़कर राजद नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को आशीर्वाद देना चाहिए.

उन्होंने नीतीश से यह भी कहा कि वह समाजवादी धर्मनिरपेक्ष विचारधारा में विश्वास रखने वाले लोगों को एकजुट करने में मदद करें क्योंकि ऐसा करना ही महात्मा गांधी और जयप्रकाश नारायण को सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘भाजपा/संघ अमरबेल के समान हैं, जिस पेड़ पर लिपट जाती हैं वह पेड़ सूख जाता है, लेकिन वे खुद पनपती जाती हैं. नीतीश जी, लालू जी ने आपके साथ संघर्ष किया है, आंदोलनों मे जेल गए हैं. भाजपा/संघ की विचारधारा को छोड़ कर तेजस्वी को आशीर्वाद दे दीजिए. इस 'अमरबेल' रूपी भाजपा/संघ को बिहार में मत पनपाओ.’



उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री से यह अपील भी की ‘नितीश जी, बिहार आपके लिए छोटा हो गया है, आप भारत की राजनीति में आ जाएं. सभी समाजवादी धर्मनिरपेक्ष विचारधारा में विश्वास रखने वाले लोगों को एकमत करने में मदद करते हुए, संघ द्वारा अंग्रेजों की पनपाई 'फूट डालो और राज करो' की नीति ना पनपने दें. विचार जरूर करें.’

सिंह ने कहा ‘यही महात्मा गांधी जी व जयप्रकाश नारायण जी के प्रति सही श्रद्धांजलि होगी. आप उन्हीं की विरासत से निकले राजनेता हैं, वहीं आ जाइए. आपको याद दिलाना चाहूंगा, जनता पार्टी संघ की दोहरी सदस्यता के आधार पर ही टूटी थी. भाजपा/संघ को छोड़िए. देश को बर्बादी से बचाइए.’

भले ही राजग ने बहुमत हासिल किया है, लेकिन इस चुनाव में विपक्षी ‘महागठबंधन’ का नेतृत्व कर रहा राष्ट्रीय जनता दल (राजद) 75 सीटें अपने नाम करके सबसे बड़ी एकल पार्टी के रूप में उभरा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज