अपना शहर चुनें

States

कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित करना बेहद निंदनीय कदम: दिलीप घोष

पश्चिम बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने ममता सरकार को निशाने पर लिया है. (File Pic)
पश्चिम बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने ममता सरकार को निशाने पर लिया है. (File Pic)

बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने कहा है कि राज्यपाल को आमंत्रण नहीं दिया गया. TMC लोकतंत्र को नहीं मानती है. ऐसी पार्टी हमारे लोकतंत्र के लिए खतरनाक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 11:30 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) सरकार ने केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पास कर दिया है. राज्य की सीएम ममता बनर्जी ने कहा है कि केंद्र को इस कानून पर सर्वदलीय बैठक बुलानी चाहिए. इससे पहले भी ममता बनर्जी कृषि कानूनों के विरोध और किसान आंदोलन के समर्थन में केंद्र सरकार को निशाने पर लेती रही हैं. उन्होंने गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा को लेकर भी केंद्र की बीजेपी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है.

प्रस्ताव पर दिलीप घोष की प्रतिक्रिया
राज्य सरकार द्वारा कानून के खिलाफ प्रस्ताव करने की बीजेपी की आलोचना की है. विधानसभा में विधेयक पास किए जाने के पहले ही बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने इस पर प्रतिक्रिया दी थी. उन्होंने कहा-पश्चिम बंगाल की विधानसभा में जो दो दिन का अधिवेशन हुआ है उसमें कृषि क़ानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित होने वाला है. यह बहुत निंदनीय है. राज्यपाल को आमंत्रण नहीं दिया गया. TMC लोकतंत्र को नहीं मानती है. ऐसी पार्टी हमारे लोकतंत्र के लिए खतरनाक है.


अनुचित भाषा का इस्तेमाल कर रही हैं ममता


इससे पहले दिलीप घोष ने आरोप लगाया कि राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए ‘अनुचित’ भाषा का इस्तेमाल कर उन्हें निशाना बना रही हैं. घोष ने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ‘शिष्टाचार की संस्कृति में विश्वास नहीं रखती हैं.’ पार्टी के सहयोगी शुभेंदु अधिकारी के साथ जनसभा को संबोधित करते हुए घोष ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री, महज राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी होने के कारण देश के दो शीर्ष नेताओं के खिलाफ अशोभनीय भाषा का इस्तेमाल करने से परहेज नहीं करती हैं.

घोष ने कहा, ‘इस बारे में सोचिए...वह (ममता) प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को बाहरी बताती हैं. वह हमारे अतिथियों का अपमान करती हैं. उन्होंने जनसभा में प्रधानमंत्री को अमर्यादित तरीके से संबोधित किया. मुख्यमंत्री के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने भी हमारे नेता शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ अशिष्ट तरीके से बात की.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज