Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    दिलीप घोष का ममता पर जुबानी हमला, कहा- सीएम राज्य में राष्ट्रपति शासन लगवा 'विक्टिम कार्ड' खेलना चाहती हैं

    दिलीप घोष ने ममता सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. (फाइल फोटो)
    दिलीप घोष ने ममता सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. (फाइल फोटो)

    दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने कहा 'ममता बनर्जी (Mamta Banarjee) चाहती हैं कि राज्य में 356 लागू हो जाए. वह केंद्र को इस काम के लिए मजबूर भी कर रही हैं, ताकि चुनाव के दौरान विक्टिम कार्ड खेल सकें.' उन्होंने सरकार पर आरोप लगाए कि तृणमूल कांग्रेस में माफिया और गुंडे हैं.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 13, 2020, 3:46 PM IST
    • Share this:
    कोलकाता. पहले अमित शाह का बंगाल दौरा और बाद में पश्चिंम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के काफिले पर हमला हुआ. माना जा रहा है कि बंगाल में चुनावी पारा ऊपर चढ़ रहा है. हाल ही में घोष ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी सरकार पर कई आरोप लगाए हैं. गौरतलब है कि घोष के काफिले पर हमले के बाद 40 कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी हुई थी.

    राज्य में राष्ट्रपति शासन चाहती हैं ममता
    बंगाल में अगले साल चुनाव होने हैं और इसे लेकर राजनीति दलों के नेता एक्टिव मोड में नजर आ रहे हैं. एक कार्यक्रम के दौरान घोष ने सीएम पर आरोप लगाए कि ममता बनर्जी राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाना चाहती हैं. उन्होंने कहा कि वो राष्ट्रपति शासन लगाकर राज्य में विक्टम कार्ड खेलना चाहती हैं. उन्होंने कहा, 'ममता बनर्जी चाहती हैं कि राज्य में 356 लागू हो जाए. वह केंद्र को इस काम के लिए मजबूर भी कर रही हैं, ताकि चुनाव के दौरान विक्टिम कार्ड खेल सकें.'

    उन्होंने सरकार पर आरोप लगाए कि तृणमूल कांग्रेस (Trinmool Congress) में माफिया और गुंडे हैं, जो लोगों को हिंसा के जरिए डराते हैं. उन्होंने कहा कि बंगाल के लोगों का भी कहना है कि जब तक यह सरकार रहेगी, तब तक निष्पक्ष चुनाव नहीं हो पाएंगे. इसलिए राष्ट्रपति शासन जरूरी है.
    वहीं राज्य की पुलिस पर ममता सरकार के लिए काम करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि बंगाल पुलिस टीएमसी के कैडर की तरह काम करती है. एक समाचार चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा, 'पुलिस के सामने नेताओं पर हमले होते हैं, लेकिन एफआईआर दर्ज नहीं होती है, इसके बजाए हमारे कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया जाता है.'



    टीएमसी में नेताओं को नहीं मिलता सम्मान
    टीएमसी नेता शुभेंदु अधिकारी के बीजेपी में शामिल होने को लेकर उन्होंने कहा कि मेरी अभी तक उनसे कोई बात नहीं हुई. मुझे इस बात की कोई जानकारी नहीं है. हालांकि, घोष ने दावा किया है कि टीएमसी में कई नेता बागी हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि टीएमसी नेताओं के मुताबिक, उन्हें पार्टी में सम्मान नहीं मिलता है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज