Home /News /nation /

कठुआ गैंगरेप केसः वकील दीपिका राजावत बोलीं- 'आज मेरे माथे से दाग हट गया'

कठुआ गैंगरेप केसः वकील दीपिका राजावत बोलीं- 'आज मेरे माथे से दाग हट गया'

दीपिका राजावत को पीड़ित पक्ष की ओर से केस लड़ने पर कई तरह की धमकियां मिलने की खबरें आई थीं. दीपिका राजावत ने खुद इस बारे में कई बार बयान दिया था

दीपिका राजावत को पीड़ित पक्ष की ओर से केस लड़ने पर कई तरह की धमकियां मिलने की खबरें आई थीं. दीपिका राजावत ने खुद इस बारे में कई बार बयान दिया था

दीपिका राजावत को पीड़ित पक्ष की ओर से केस लड़ने पर कई तरह की धमकियां मिलने की खबरें आई थीं. दीपिका राजावत ने खुद इस बारे में कई बार बयान दिया था

    कठुआ केस में पीड़ित पक्ष की वकील दीपिका राजावत ने मामले में आरोपियों पर दोष सिद्ध होने पर खुशी जाहिर की है. News 18 से बातचीत में उन्होंने कहा, "आज सच्चाई की जीत हुई. उन शरारती तत्वों की हार हुई जिन्होंने आठ साल की बच्ची की मौत पर देश को बांटने की कोशिश की. मैं बधाई देना चाहती हूं पूरे देश का ये एक त्योहार है."

    इतना ही नहीं उन्होंने आगे कहा, "कुछ ऐसे लोग ऐसे थे जो इस मामले को एक दूसरा ही रूप देने में लगे थे. लोगों ने ऐसा प्रचार किया जैसे मैं ये केस लड़कर गलत कर रही थी. मैं ये शब्द इस्तेमाल करना चाहूंगी मेरे ऊपर आरोप लगाया गया. मुझे कहा गया कि मैं मासूम हिंदुओं को फंसा रही हूं. मैं आज तक ये आरोप अपने माथे पर लेकर जी रही थी. लेकिन कहते हैं कि ईश्वर के घर में देर है अंधेर नहीं, ठीक उसी तरह आज मेरे माथे से ये दाग हट गया."

    उल्लेखनीय है दीपिका राजावत को पीड़ित पक्ष की ओर से केस लड़ने पर कई तरह की धमकियां मिलने की बात सामने आई थी. दीपिका राजावत ने खुद इस बारे में कई बार बयान दिया था कि उन्हें केस से हट जाने के लिए कहा जा रहा है.



    सात में छह आरोप‌ियों पर दोष सिद्ध
    कठुआ में अल्पसंख्यक घुमंतू समुदाय की आठ साल की मासूम को घोड़ों को चराते समय कथित रूप से 10 जनवरी 2018 अगवा करने के बाद एक मंदिर में बंधक बनाकर सामूहिक बलात्कार किया गया और 13 जनवरी को उसकी हत्या कर दी गई थी. कठुआ के गांव के इस मंदिर के संरक्षक और दो पुलिसकर्मियों समेत आठ लोगों को करीब दो महीने बाद उनकी कथित संलिप्तता को लेकर गिरफ्तार किया गया था. लेकिन मामला इसके बाद ज्यादा बड़ा हो गया था.

    यह भी पढ़ें- कठुआ मामले की पल-पल की रिपोर्ट पढ़ें यहां

    आरोपियों में सांझी राम, सब-इंस्पेक्टर आनंद दत्ता, दो विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजुरिया और सुरेंद्र वर्मा, हेट कॉन्स्टेबल तिलक राज और स्थानीय नागरिक प्रवेश कुमार को दोषी करार दिया गया है. अदालत ने सांझी राम, दीपक खजुरिया और प्रवेश कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई है वहीं तीन अन्य आरोपियों को पुलिस ने पांच साल की सज़ा सुनाई.

    इनके खिलाफ रेप, मर्डर और साक्ष्यों को छिपाने की अलग-अलग धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. जबकि सांझी राम के बेटे विशाल को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया है.

    kathua case, kathua case update, kathua news, kathua temple, kathua case latest update, kathua details, kathua rape case, kathua gangrape, कठुआ केस

    दीपिका राजावत को परिवार ने केस से हटा दिया था, सुनवाई में कोर्ट ना जाने का था आरोप
    जम्मू-कश्मीर के कठुआ में गैंगरेप की शिकार आठ साल की बच्ची के परिवार ने वकील दीपिका सिंह राजावत को नवंबर 2018 केस से हटा दिया था. पीड़िता के पिता ने पठानकोट की अदालत में दिए आवेदन में कहा कि राजावत की इस केस में रुचि नहीं ले रही थीं. वह अदालत में इस केस की अब तक हुई 110 सुनवाई में से महज दो बार पेश हुई थीं. इस कारण वह उनसे अपना केस वापस लेना चाहते थे. बाद में कोर्ट ने उनका आवेदन स्वीकर कर लिया था.

    मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, दीपिका सिंह राजावत ने इस मामले में दुख जताते हुए अपनी समस्याओं के बारे में बताया. उन्होंने इस मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट में पेश न होने के सवाल पर कहा कि उनके शहर से पठानकोट करीब ढाई सौ किलोमीटर दूर है. ऐसे में उनके लिए हर हियरिंग पर कोर्ट जाना मुश्किल हो रहा था. हालांकि इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार ने कभी उनसे संपर्क नहीं किया और अब यह खबर सुनकर उन्हें दुख पहुंचा है.

    यह भी पढ़ें- 

    कठुआ रेप कांड: बच्ची से गैंगरेप-हत्या मामले में पुजारी समेत 6 आरोपी दोषी करार, 4 बजे सज़ा का ऐलान

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Jammu kashmir, Kathua Rape, Kathua rape case

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर