लाइव टीवी

जम्मू-कश्मीर पहुंचे 16 देशों के राजनयिक, दो दिन में करेंगे सुरक्षा व्यवस्था का मुआयना

News18Hindi
Updated: January 9, 2020, 2:25 PM IST
जम्मू-कश्मीर पहुंचे 16 देशों के राजनयिक, दो दिन में करेंगे सुरक्षा व्यवस्था का मुआयना
2019 में ही कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया गया.

दिल्ली (Delhi) में अलग-अलग देशों के राजनयिक (Diplomat) विशेष विमान से श्रीनगर हवाई अड्डे पहुंचे, जहां पर नवगठित केंद्र शाषित प्रदेश के अधिकारियों ने उनका स्वागत किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2020, 2:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से आर्टिकल-370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से वहां की स्थित का जायजा लेने के लिए एक बार फिर 16 देशों के राजनयिक (Diplomat) दो दिवसीय दौरे पर श्रीनगर पहुंच चुके हैं. दिल्ली में अलग-अलग देशों के राजनयिक विशेष विमान से श्रीनगर हवाई अड्डे पहुंचे, जहां पर नवगठित केंद्र शाषित प्रदेश के अधिकारियों ने उनका स्वागत किया. इस दल के साथ भारत में रह रहे अमेरिकी राजदूत केनेथ जस्टर भी प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा हैं.

बताया जा रहा है कि राजनयिक दल दो दिनों तक श्रीनगर के हालात का जायजा लेगा. गुरुवार को ये दल केंद्र शासित प्रदेश की शीतकालीन राजधानी जम्मू जाएंगे और रात में यहीं पर ठहरेंगे. इस दौरान राजनयिक उपराज्यपाल जीसी मुर्मू और नागरिक समूह के सदस्यों के साथ मुलाकात करेंगे. जम्मू-कश्मीर की यात्रा में जाने वाले राजनयिकों में बांग्लादेश, वियतनाम, नार्वे, मालदीव, दक्षिण कोरिया, मोरोक्को, नाइजीरिया आदि देशों के राजनयिक शामिल होंगे.

इसे भी पढ़ें :- इस दशक की वो पांच घटनाएं जिन्होंने भारत की तस्वीर बदली

यात्रा के दौरान राजनयिक सुरक्षा व्यस्था का लेंगे जायजा

राजनयिक नागरिक समाज के सदस्यों से मुलाकात करेंगे और उन्हें विभिन्न एजेंसियों द्वारा सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी दी जाएगी. उसी दिन राजनयिकों को जम्मू ले जाया जाएगा जहां वे उप राज्यपाल जी सी मुर्मू और अन्य अधिकारियों से मुलाकात करेंगे. सूत्रों ने बताया कि कई देशों के राजनयिकों ने भारत सरकार से अनुरोध किया था कि अनुच्छेद 370 के प्रावधान हटने के बाद की स्थिति का जायजा लेने के लिए कश्मीर का दौरा करने की अनुमति दी जाए.

इसे भी पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर में 2019 में मारे गये 160 आतंकवादी, 102 को किया गया गिरफ्तार: डीजीपी

इससे पहले यूरोपीय संघ का शिष्टमंडल भी जा चुका है कश्मीरइस कदम से भारत को कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के दुष्प्रचार को ध्वस्त करने में मदद मिलेगी. भारत ने पी-पांच देशों और विश्व के सभी देशों की राजधानियों से संपर्क कर अनुच्छेद 370 के प्रावधान निरस्त करने के निर्णय पर अपना मत रखा था.

इसे भी पढ़ें :- Article 370 पर बोले सेना प्रमुख नरवणे- भारत के फैसले को शांति से स्वीकार करे पाकिस्तान, अब काम हो चुका है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 9, 2020, 2:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर