• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • DISCORD IN PUNJAB CONGRESS CAPTAIN AMARINDER TO MEET PARTY PANEL TODAY MAY DISCUSS WITH RAHUL GANDHI

पंजाब कांग्रेस में कलह: आज पार्टी पैनल से मिलेंगे कैप्टन अमरिंदर, कर सकते हैं राहुल गांधी से चर्चा

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कांग्रेस पैनल से आज मिलने वाले हैं. (पीटीआई फाइल फोटो)

Punjab Congress Dispute: कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की तरफ से तैयार की गई तीन सदस्यीय पैनल से नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने हाल ही में मुलाकात की थी. कहा जा रहा है कि कैप्टन के खिलाफ अपनी आवाज उठाने वालों में सबसे बड़ा नाम सिद्धू ही है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. पंजाब कांग्रेस में जारी आंतरिक कलह के बीच मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) आज शुक्रवार को पार्टी पैनल से मुलाकात कर सकते हैं. बैठक के लिए राजधानी दिल्ली पहुंच रहे सिंह कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से भी वीडियो कॉल के जरिए बातचीत कर सकते हैं. बीते सोमवार से जारी बैठक में पैनल के सामने नवजोत सिंह सिद्धू समेत कांग्रेस के करीब 100 नेता अपना पक्ष रख चुके हैं.

    पैनल में शामिल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कुछ दिनों पहले ही सीएम अमरिंदर सिंह के साथ मीटिंग की जानकारी दी थी. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, उन्होंने कहा था, 'पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब कांग्रेस में जारी कलह को खत्म करने के लिए गठित तीन सदस्यीय पैनल से 3 जून की शाम या 4 जून की सुबह मुलाकात करेंगे.' रावत के साथ इस पैनल में राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और जेपी अग्रवाल शामिल हैं.

    यह भी पढ़ें: मलेरकोटला को पंजाब का 23वां जिला बनाने के लिए कैबिनेट से मिली मंजूरी, CM अमरिंदर सिंह ने ईद पर किया था ऐलान

    सिद्धू सबसे बड़े विरोधी
    कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की तरफ से तैयार की गई तीन सदस्यीय पैनल से सिद्धू ने हाल ही में मुलाकात की थी. कहा जा रहा है कि कैप्टन के खिलाफ अपनी आवाज उठाने वालों में सबसे बड़ा नाम सिद्धू ही है. एएनआई के अनुसार, दूर से लगता है कि यह मुकाबला सिद्धू बनाम कैप्टन है, लेकिन असल में यह विवाद चुनावी वादों का पूरा ना किए जाने से जुड़ा है. इसमें सबसे बड़ा मुद्दा गुरू ग्रंथ साहिब की बेअदबी का है. कांग्रेस नेताओं का मानना है कि अगर इसके खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई, तो पार्टी को चुनाव में भारी नुकसान होगा.

    आरोपों की फेहरिस्त में कई बातें शामिल
    सिद्धू के बाद विधायक परगट सिंह समेत कई विधायकों ने सीएम सिंह के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराया है. खास बात है कि पंजाब के सीएम राज्य में गृह मंत्रालय की भी जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. कैप्टन के विरोधियों ने उनपर सुखबीर सिंह बादल के करीबी होने और उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के आरोप लगाए हैं. राज्य में कैप्टन को हटाने की कवायद तेज होती नजर आ रही है. पंजाब में विधानसभा चुनाव में करीब 8 महीनों का वक्त बाकी है. ऐसे में चुनाव से पहले पार्टी के आंतरिक विवाद को खत्म करने के लिए शीर्ष नेतृत्व सक्रिय हुआ है.
    Published by:Nisarg Dixit
    First published: