लाइव टीवी

सिटिजनशिप बिल: कपिल सिब्बल का अमित शाह को जवाब- मुसलमान सिर्फ संविधान से डरते हैं

News18Hindi
Updated: December 11, 2019, 5:00 PM IST
सिटिजनशिप बिल: कपिल सिब्बल का अमित शाह को जवाब- मुसलमान सिर्फ संविधान से डरते हैं
कपिल सिब्बल ने सरकार की मंशा पर सवाल किये.

नागरिकता संशोधन विधेयक(Citizenship amendment bill 2019) पर चर्चा के दौरान कांग्रेस (Congress) नेता और राज्यसभा सांसद कपिल सिब्बल (Kapil sibbal)ने बयान दिया. उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह (Amit shah)पर सवाल किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 11, 2019, 5:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नागरिकता विधेयक बिल (Citizenship amendment bill 2019) पर जारी बहस के दौरान कांग्रेस नेता और सांसद कपिल सिब्बल (Kapil sibbal) ने केंद्र की मोदी सरकार और इस बिल से जुड़ी उसकी मंशा पर सवालिया निशान लगाए. सिब्बल ने इस विधेयक पर चर्चा के दौरान गृह मंत्री अमित शाह (Amit shah) के उस बयान पर भी टिप्पणी की जिसमें उन्होंने देश का धार्मिक आधार पर बंटवारे का जिम्मेदार कांग्रेस को ठहराया था. सिब्बल ने कहा कि, 'मुझे समझ नहीं आता कि गृह मंत्री ने कौन सी इतिहास की किताबें पढ़ी हैं. दो-राष्ट्र सिद्धांत हमारा सिद्धांत नहीं है. यह सावरकर द्वारा बनाया गया था.'

सिब्बल ने कहा, 'मैं गृह मंत्री जी से अनुरोध करता हूं कि वह उस आरोप को वापस लें क्योंकि हम उस एक राष्ट्र में विश्वास करते हैं, आप उस पर विश्वास नहीं करते हैं.' उन्होंने कहा, 'जिनके पास भारत का कोई विचार नहीं है, वे भारत के विचार की रक्षा नहीं कर सकते हैं.'

सिब्बल ने कहा- आप बदलना चाहते हैं इतिहास
सिब्बल ने कहा कि आप हमारे इतिहास को बदलना चाहते हैं, इसीलिए आप कहते हैं कि यह एक ऐतिहासिक विधेयक है. मैं गृह मंत्री से राजनीति से परे उठने का अनुरोध करता हूं. आप इस देश के भविष्य को नष्ट कर रहे हैं. कांग्रेस सांसद सिब्बल ने कहा कि सरकार देश के भविष्य से खिलवाड़ कर रही है.

सिब्बल ने पूछा कि सरकार गैर कानूनी और कानूनी शरणार्थी के बीच अंतर कैसे करेगी. उन्होंने कहा कि इसे देश को जुरासिक रिपब्लिक में ना बदलें. सिब्बल ने शाह पर निशाना साधते हुए कहा कि आपने शुरू में एक बहुत ही आपत्तिजनक बात कही. इस बिल से देश के मुसलमानों को डरने की ज़रूरत नहीं. आपको बता दूँ कि आपसे देश का कोई मुसलमान नहीं डरता है. न मैं डरता हूँ न कोई और डरता है. हम डरते हैं तो देश के संविधान से डरते हैं. '

उन्होंने कहा कि धर्म कभी भी नागरिकता देने का अधिकार नहीं हो सकता. सिब्बल ने सरकार से सवाल किया कि आप यह कैसे साबित करेंगे कि कोई शख्स प्रताड़ित हुआ है. ऐसा कोई कानून नहीं है.'

यह भी पढ़ें:  मणिपुर में इनर लाइन परमिट व्यवस्था लागू, राष्ट्रपति ने आदेश पर किए हस्ताक्षर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 4:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर