लाइव टीवी

आतंकियों को पनाह देने के लिए DSP दविंदर सिंह ने बना रखी थी खास जगह, विदेशी एजेंसी से रहे कनेक्शन

News18Hindi
Updated: January 16, 2020, 10:48 AM IST
आतंकियों को पनाह देने के लिए DSP दविंदर सिंह ने बना रखी थी खास जगह, विदेशी एजेंसी से रहे कनेक्शन
डीएसपी दविंदर सिंह को कुलगाम में आतंकियों के साथ गिरफ्तार किया गया था.

जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) पुलिस ने डीएसपी दविंदर सिंह (Davinder Singh) को दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम (Kulgam) जिले के मीर बाजार में हिजबुल मुजाहिदीन के 2 आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2020, 10:48 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर पुलिस (Jammu and Kashmir) में डीएसपी रहे दविंदर सिंह (Davinder Singh) ने दावा किया है कि उन्होंने आतंकी नवीद बाबू की पिछले साल भी मदद की थी. सूत्रों के अनुसार जांच के दौरान यह भी सामने आया है कि बर्खास्त डीएसपी दविंदर सिंह ने आतंकियों को पनाह देने के लिए खास अड्डा भी बना रखा था. नवीद बाबू की मदद के लिए डीएसपी को 8 लाख रुपये भी मिले थे. साल 2017 में उनके कनेक्शन एक विदेशी एजेंसी से भी जुड़े थे.

सूत्रों के अनुसार, डीएसपी दविंदर सिंह ने दो महीने तक नवीद को अपने अड्डे पर रखा था. दविंदर सिंह ने सुरक्षा एजेंसियों के समक्ष दावा किया है कि उनके साथ एक और अफसर शामिल था. हालांकि, सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि दविंदर सिंह उन्हें गुमराह कर रहे हैं. जानकारी के अनुसार, उनके अकाउंट से आखिरी ट्रांजैक्शन 30 डॉलर यानी 2,123.44 रुपये का था. जांच एजेंसियां इस आशय की जांच कर रही हैं कि दविंदर ने और कितने आतंकियों को अपने अड्डे पर पनाह दे रखी थी.

सभी रिकॉर्ड एनआईए को सौंप दिए जाएंगे
वहीं, अधिकारियों ने जानकारी दी कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) जल्द ही जम्मू-कश्मीर के निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह का मामला अपने हाथ में लेगी. सिंह को पिछले हफ्ते दक्षिण कश्मीर में दो आतंकियों और उनके सहयोगी के साथ पकड़ा गया था. इनकी पहचान प्रतिबंधित संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का स्वयंभू जिला कमांडर नवीद बाबू, उसका सहयोगी अल्ताफ अहमद और वकील इरफान अहमद मीर के तौर पर हुई. जांच में ये भी पता चला है कि वकील इराफान ही नवीद और अल्ताफ को डीएसपी के घर लेकर गया था.

अधिकारियों ने जम्मू में कहा कि जांच एजेंसी द्वारा मामला दर्ज किए जाने के बाद सभी रिकॉर्ड एनआईए को सौंप दिए जाएंगे. अधिकारियों ने बताया कि माना जाता है कि उन्होंने दोनों आतंकवादियों को चंडीगढ़ ले जाने और कुछ महीने तक उनके रहने की व्यवस्था के लिए 12 लाख रुपये लिए थे.

(एजेंसी इनपुट के साथ)

यह भी पढ़ें:  डीएसपी दविंदर सिंह के बारे में अफजल गुरु ने अपने खत में क्या लिखा था

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 9:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर