कोरोना काल में PPE किट सहित बायोमेडिकल अपशिष्ट का निपटान बना सरकार के लिए बड़ी चुनौती

पीपीई किट का निपटान सरकार के लिए बड़ी चुनौती (फाइल फोटो)
पीपीई किट का निपटान सरकार के लिए बड़ी चुनौती (फाइल फोटो)

अश्विनी कुमार चौबे (Ashwini Kumar Choubey) ने कहा, ‘केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने बताया है कि स्वास्थ्य पेशेवरों और आम लोगों द्वारा पहने जाने वाले पीपीई किट सहित बायोमेडिकल अपशिष्ट का निपटान कोविड-19 के दौरान बड़ी चुनौती बन गया है.'

  • भाषा
  • Last Updated: September 20, 2020, 5:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने रविवार को कहा कि कोरोना महामारी के इस दौर में पीपीई किट सहित बायोमेडिकल अपशिष्ट का निपटान एक बड़ी चुनौती है. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे (Ashwini Kumar Choubey) ने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित जवाब में यह जानकारी दी.

अश्विनी कुमार चौबे (Ashwini Kumar Choubey) ने बताया ‘केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने बताया है कि स्वास्थ्य पेशेवरों और आम लोगों द्वारा पहने जाने वाले पीपीई किट सहित बायोमेडिकल अपशिष्ट का निपटान कोविड-19 के दौरान बड़ी चुनौती बन गया है.’

कचरा संग्रह एवं उसका निपटान करने वालों में कोविड-19 के संक्रमण के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा ‘‘जन स्वास्थ्य राज्य का विषय है. अत: कचरा संग्रह एवं उसका निपटान करने वालों में, पीपीई किट सहित बायोमेडिकल अपशिष्ट के निपटान के दौरान, कुप्रबंधन की वजह से उनमें कोरोना वायरस का संक्रमण होने को लेकर आंकड़ों का केंद्रीय स्तर पर प्रबंधन नहीं किया जाता.’’



देश में कोरोना का आंकड़ा 54 लाख के पार
देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले तेजी से आगे बढ़ रहे हैं. हर ​दिन कोरोना संक्रमण का आंकड़ा 90 हजार को पार कर जा रहा है. पिछले 24 घंटे की बात करें तो कोरोना संक्रमण के 92 हजार 605 नए मामले सामने आए जबकि इसी दौरान 1133 लोगों की मौत कोरोना संक्रमण की वजह से हुई. नए मामले सामने आने के बाद देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या ने 54, 00,619 हो गई है. शुक्रवार की बात करें तो देश में 93 हजार 337 नए मामले सामने आए थे जबकि 1247 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज