जम्मू-कश्मीर को 2 हिस्सों में बांटने वाला बिल राज्यसभा से पास, समर्थन में 125 वोट

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल राज्यसभा में पास हो गया है. इससे पहले राज्यसभा से जम्मू कश्मीर आरक्षण दूसरा संशोधन बिल ध्वनिमत से पारित कर दिया गया.

भाषा
Updated: August 5, 2019, 10:11 PM IST
जम्मू-कश्मीर को 2 हिस्सों में बांटने वाला बिल राज्यसभा से पास, समर्थन में 125 वोट
जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल राज्यसभा में पास हो गया है. इससे पहले राज्यसभा से जम्मू कश्मीर आरक्षण दूसरा संशोधन बिल ध्वनिमत से पारित कर दिया गया.
भाषा
Updated: August 5, 2019, 10:11 PM IST
जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त करने, जम्मू कश्मीर को विधायिका वाला केंद्र शासित क्षेत्र और लद्दाख को बिना विधायिका वाला केंद्र शासित क्षेत्र बनाने संबंधी सरकार के दो ‘‘साहसिक एवं जोखिम भरे’’ संकल्पों एवं दो संबंधित विधेयकों को सोमवार को राज्यसभा की मंजूरी मिल गई.

राज्यसभा ने इन मकसद वाले दो सरकारी संकल्पों, जम्मू कश्मीर आरक्षण (द्वितीय संशोधन) विधेयक, 2019 तथा जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक को ध्वनिमत से पारित कर दिया. इससे पहले जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक को पारित करने के लिए उच्च सदन में हुए मत विभाजन में संबंधित प्रस्ताव 61 के मुकाबले 125 मतों से मंजूरी दे दी गई.

दोनों संकल्प पारित होने से पहले ही इनका विरोध करते हुए तृणमूल कांग्रेस और जदयू ने सदन से वाकआउट किया. मत विभाजन में राकांपा ने हिस्सा नहीं लिया. वहीं इस बिल के पास होने के बाद 10 प्रतिशत सवर्ण आरक्षण जम्‍मू कश्‍मीर में भी लागू हो जाएगा.

370 से राज्य में पनपा आतंकवाद

इससे पहले चर्चा का जवाब देते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि अनुच्छेद 370 के कारण जम्मू कश्मीर के ‘‘तीन सियासतदानों के परिवारों’’ के अलावा किसी अन्य का फायदा नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि इसी अनुच्छेद के कारण राज्य में आतंकवाद पनपा और बढ़ा.



शाह ने सदन में आश्वासन दिया कि जम्मू कश्मीर को केन्द्र शासित क्षेत्र बनाने का कदम स्थायी नहीं है तथा स्थिति समान्य होने पर राज्य का दर्जा बहाल कर दिया जाएगा. विपक्ष ने राज्य का दर्जा खत्म किये जाने के कदम का काफी विरोध किया था.
Loading...

जम्मू-कश्मीर को मिल सकता है राज्य का दर्जा
गृह मंत्री ने विपक्ष की इन आपत्तियों की चर्चा करते स्पष्ट किया कि जम्मू कश्मीर में ‘‘जैसे ही स्थिति सामान्य होगी और उचित समय आयेगा, हम जम्मू कश्मीर को राज्य का दर्जा दे देंगे.’’ उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर ‘‘देश का मुकुट मणि’’ है और बना रहेगा.

उन्होंने चर्चा के दौरान कुछ सदस्यों द्वारा अनुच्छेद 370 हटने के बाद राज्य के कोसोवो बनने की आशंकाएं जताये जाने का जिक्र करते हुए उन्हें आश्वस्त किया कि ‘‘यह कोसोवो नहीं बनेगा.’’

ये भी पढ़ें-
मंत्रियों को भी नहीं थी पीएम मोदी-अमित शाह की रणनीति की खबर, यूं खत्‍म किया आर्टिकल 370-35A 

अनुच्छेद-370 पर ऐतिहासिक फैसले के बाद जम्मू-कश्मीर में खुलेगी विकास की राह
First published: August 5, 2019, 6:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...