लाइव टीवी
Elec-widget

दिव्यांग-बुजुर्ग मतदाताओं को अब नहीं होगी बूथ जाने की जरूरत, इस तरह घर बैठे डाल सकेंगे वोट

भाषा
Updated: November 12, 2019, 12:01 AM IST
दिव्यांग-बुजुर्ग मतदाताओं को अब नहीं होगी बूथ जाने की जरूरत, इस तरह घर बैठे डाल सकेंगे वोट
चुनाव आयोग 80 साल से अधिक उम्र वाले बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं को डाक मतपत्र से मतदान करने की सुविधा देने जा रहा है (सांकेतिक फोटो)

चुनाव आयोग (Election Commission) ने सोमवार को संशोधित अधिसूचना (Revised Notification) जारी कर स्पष्ट किया कि यह सुविधा राज्य की सभी विधानसभा सीटों के बजाय सात विधानसभा क्षेत्रों (Assembly Constituencies) तक ही सीमित रहेगी.

  • भाषा
  • Last Updated: November 12, 2019, 12:01 AM IST
  • Share this:
नयी दिल्ली. चुनाव आयोग 80 साल से अधिक उम्र वाले बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं (Elderly and Disabled Voters) को डाक मतपत्र से मतदान करने की सुविधा, झारखंड विधानसभा के आगामी चुनाव (Jharkhand Assembly Election) में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर सात विधानसभा क्षेत्रों से शुरू करेगा.

आयोग ने सोमवार को संशोधित अधिसूचना (Revised Notification) जारी कर स्पष्ट किया कि यह सुविधा राज्य की सभी विधानसभा सीटों के बजाय सात विधानसभा क्षेत्रों (Assembly Constituencies) तक ही सीमित रहेगी. उल्लेखनीय है कि आयोग ने दो नवंबर की अधिसूचना में राज्य के सभी 81 विधानसभा क्षेत्रों में यह सुविधा लागू करने की घोषणा की थी.

अभी सात विधानसभा क्षेत्रों तक ही सीमित रहेगा प्रयोग
आयोग के वरिष्ठ प्रमुख सचिव के एफ विल्फ्रेड द्वारा जारी संशोधित अधिसूचना में इस सुविधा को प्रयोग के तौर पर सात विधानसभा क्षेत्रों (Assembly Constituencies) (राजमहल, पाकुड़, जामताड़ा, देवघर, गोड्डा, बोकारो और धनबाद) तक ही सीमित रखने की बात कही है.

आयोग ने कानून मंत्रालय (Law Ministry) द्वारा पिछले महीने चुनाव नियमों में संशोधन करते हुये 80 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों और दिव्यांग मतदाताओं (Disabled Voters) को डाक मतपत्र से मतदान की सुविधा देने की शुरुआत की थी. अभी सैन्य बल, विदेश मंत्रालय के विभिन्न देशों में कार्यरत अधिकारियों और कर्मचारियों तथा निर्वाचन कर्मियों को डाक मतपत्र से मतदान की सुविधा प्राप्त है.

चुनाव आयोग ने केंद्र सरकार को दिया था यह सुझाव
चुनाव आयोग ने केंद्र सरकार से 80 वर्ष से अधिक उम्र और दिव्यांगों को पोस्टल बैलेट वोटिंग की सुविधा देने के लिए नियम में संशोधन का सुझाव दिया था. इसके आलोक में केंद्र सरकार ने ‘कंडक्ट ऑफ इलेक्शन रूल 1961’ में संशोधन किया. इस संशोधित नियम को ‘कंडक्ट ऑफ इलेक्शन रूल (Amended) 2019’ के नाम से जाना जाता है. इस संशोधित नियमावली के नियम 27-ए में 80 साल से ज्यादा उम्र और दिव्यांगों को जोड़ा गया.
Loading...

इस संशोधित नियम के आलोक में चुनाव आयोग ने पहली बार झारखंड (Jharkhand) में 80 साल के ज्यादा उम्र और दिव्यांगों को पोस्टल बैलेट से वोटिंग की सुविधा देने का निर्देश दिया. इसके तहत कुल 5.30 लाख लोगों को यह सुविधा दी जानी थी. पोस्टल बैलेट वोटिंग की प्रक्रिया में डाक विभाग (Postal Department) की भूमिका को देखते हुए उसके साथ एक करोड़ रुपये का करार किया गया था.

यह भी पढ़ें: वो सख्त चुनाव आयुक्त जिसने बिहार और यूपी में चुनाव सुधार दिए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 11:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...